मई में यूपीआई पेमेंट का बना नया रिकार्ड

Spread the love

लेन देन में सावधानी रखना है जरूरी


जयपुर.
पीएम मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए 2016 में यूनाइटेड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) की शुरुआत की थी। इसका मुख्य लक्ष्य देशवासियों को एक ऐसा मंच प्रदान करना थाए जहां से आम जनता आसानी से डिजिटल माध्यम से भुगतान कर सके। बीते 5 साल में यूनाइटेड पेमेंट इंटरफेस ने डिजिटल लेनदेन की दुनिया में नए कीर्तिमान रचे हैं।
नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने लेटेस्ट आंकड़े जारी किए हैं जिसके मुताबिक यूपीआई ने पहली बार किसी एक महीने मई में ही 10 लाख करोड़ ट्रांजेक्शन का आंकड़ा छुआ है। यह आंकड़े इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यूपीआई के लॉन्च होने के बाद इस ऐतिहासिक लक्ष्य को छुआ गया है।
इस साल इंस्टेंट रियल टाइम पेमेंट सिस्टम ने 595 करोड़ की लेनदेन दर्ज की है जो कि अप्रैल में 558 करोड़ रुपए ही थी। कोरोना महामारी के दौरान मार्च 2020 में यूपीआई लेनदेन की संख्या 124 करोड़ थी जिसकी कुल अमाउंट 2.06 लाख करोड़ रुपए थी। मई 2021 की तुलना में मई 2022 में लेनदेन संख्या में 117 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है।
कोरोना महामारी के दौरान डिजिटल लेनदेन को काफी बढ़ावा मिला। देश के बड़े शहरों के अलावा ग्रामीण भारत में भी विद्युतीकरण और इंटरनेट की पहुंच में आने से लोग अब यूपीआई का भरपूर उपयोग कर रहे हैं। चौक-चौराहे से लेकर गली हो या सडक़ हर जगह पर छोटे व्यापारियों और रेहड़ी-पटरी पर अपनी आजीविका चलाने वाले लाखों लोग डिजिटल माध्यम से भुगतान स्वीकार कर रहे हैं जिससे लोगों का जीवन बहुत आसान हो गया है।
डिजिटल माध्यम में जितनी सुविधाएं हैं कई बार इसमें उतनी ही चुनौतियां भी होती है। डिजिटल पेमेंट में बस एक क्लिक से हम किसी को पैसे भेज सकते हैं या उनसे रिसीव कर सकते हैं। ऐसे में जब भी यूपीआई पेमेंट के माध्यम से आप किसी को पैसे भेजें तो उसकी यूपीआई आईडी जरूर वेरीफाई कर लें या दूसरा तरीका या भी हो सकता है कि आप बेहद कम धनराशि उनके अकाउंट में ट्रांसफर करें जिससे आपके साथ धोखा नहीं होगा।
डिजिटल माध्यम से लेन-देन में सतर्क रहने की आवश्यकता है। जैसे कि वे कभी भी अपना वन टाइम पासवर्ड यानि ओटीपी किसी को न बताएं। वहीं अगर कोई ठेला या कोई अन्य दुकान लगा रहा है तो उसे अपने क्यूआर कोड को ऐसी जगह पर रखना चाहिए जहां उसे कोई बदल ना सके या उसके साथ कोई छेड़छाड़ न कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *