सूदखोरों से परेशान बिजनेसमैन ने जहर खाया, हाथ की नसें काट दी जान

Spread the love

जयपुर। सूदखोरों से परेशान एक बिजनेसमैन ने जयपुर में सुसाइड कर लाया। बिजनेसमैन ने पहले जहर खाया और इसके बाद दोनों हाथों की नस काट ली। इस दौरान पत्नी किसी काम से छत पर गई तो पति राजेश तड़पते हुए मिला। बिजनेसमैन को SMS हॉस्पिटल लेकर आए, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया
मामला शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र के हरिशचंद्र मार्ग चांदपोल का है। मृतक राजेश गोयल (59) के पास एक सुसाइड नोट भी मिला है। सुसाइड नोट में लिखा है कि 70 लाख रुपए का कर्ज, डेढ़ करोड़ तक हो गया। गुरुवार दोपहर 1 बजे परिजन पोस्टमार्टम के बाद शव कोतवाली थाना लेकर पहुंचे और हंंगामा किया। करीब एक घंटे हंगामा चलने के बाद FIR दर्ज कर कार्रवाई की मांग के आश्वासन पर मामला शांत करवाया गया। मृतक की पत्नी मंजू देवी की शिकायत पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज करवाया गया।

पत्नी छत पर गई तो लहूलुहान मिला राजेश

पुलिस उपनिरीक्षक दशरथ ने बताया कि बिजनेसमैन राजेश गोयल की चौड़ा रास्ता में मेडिकल शॉप है। वह पत्नी मंजू, बेटे चेतन्य व चंद्रेश गोयल के साथ हरिश्चंद्र मार्ग पर रहते थे। बुधवार शाम राजेश गोयल अपनी पत्नी मंजू के साथ घर पर थे। शाम को वह घर की 5वीं मंजिल की छत पर टहलने गए थे। इसी दौरान उन्होंने जहर खा लिया और ब्लेड से दोनों हाथ की नस काट ली। काफी देर तक राजेश नीचे नहीं आया तो पत्नी रात 8 बजे छत पर गई। पति राजेश को छत पर लहूलुहान देखकर मंजू अवाक रह गई। बेटे को कॉल कर तुरंत घर बुलाया। राजेश को परिजन गंभीर हालत में SMS हॉस्पिटल लेकर गए। वहां इलाज के दौरान रात करीब 9.30 बजे राजेश की मौत हो गई।

सुसाइड नोट में लिखे सूदखोरों के नाम

राजेश के पास एक सुसाइड नोट मिला, जिसमें लिखा है कि मैं सुदखोरों से परेशान हो चुका हूं। अपने बिजनेस के लिए मैंने सुनील तिवाड़ी, सुरेन्द्र कुमार गुप्ता, राकेश खण्डेलवाल, राजकुमार अग्रवाल, सतीश चन्द्र अग्रवाल, नीलम अग्रवाल, कमल मोदी, नीरोज जैन, नेमीचंद्र शर्मा, शंकर लाल गुप्ता, रीतेश मामोडिया, शिव शंकर उर्फ सुमित मोदी, नेमीचन्द सर्राफ, प्रहलाद राय, सरिता जाखड़ और नीतू कुमारी से पैसे उधार ले रखे थे।
इसके बदले में उन्होंने उससे और बेटे चैतन्य से खाली स्टाम्प और चैक ले रखे थे। उधार लिए 70 लाख रुपए के डेढ़ करोड़ रुपए वसूल कर चुके थे। इसके बाद भी ये लोग डेढ़ करोड़ रुपए और मांग रहे थे। सुसाइड नोट में लिखा कि इन लोगों की वजह से काफी कर्जा हो गया है। मैं पूरी तरह से कर्ज में डूब गया हूं। असल से ज्यादा ब्याज भर चुका हूं। इसके बाद भी ये लोग मुझे परेशान करते है। आए दिन धमकियां देने के साथ ही इज्जत उछालने की बात कहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *