तीन कर्मचारियों ने किया करोड़ों का फर्जीवाड़ा

Spread the love

आयकर विभाग में टीडीएस के नाम पर की गड़बड़


जयपुर.
आयकर विभाग के तीन कर्मचारियों ने करोड़ों रूपयों का घोटाला किया। यह गडबडी टीडीएस के नाम पर की गई।
सीबीआई ने आयकर विभाग के तीन अधिकारियों के खिलाफ जांच शुरू की है जिन्होंने कई लोगों का टीडीएस लौटाने के लिए कंप्यूटर प्रणाली तक पहुंच के वरिष्ठ अधिकारियों के अधिकारों का दुरूपयोग कर कथित तौर पर फर्जी तरीके से रिफंड हासिल किये थे। संयुक्त आयुक्त आयकर मुजफ्फरनगर की शिकायत के आधार पर आयकर विभाग के समूह ग के तीन अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है जो कथित तौर पर आकलन करने वाले अधिकारियों के आरएसए टोकन का दुरुपयोग कर विभाग को धोखा देने और कर कटौती टीडीएस के फर्जी रिफंड उत्पन्न करने में कामयाब रहे।
आरएस टोकन एक विशेष समाधान हैं जो प्रत्येक 60 सेकंड में उपयोगकर्ता के पासवर्ड को स्वचालित रूप से बदल देता है। प्राथमिकी के बाद एजेंसी ने कई स्थानों पर तलाशी ली। सीबीआई ने रिफंड के नौ लाभार्थियों के साथ मामले के संबंध में तीन आयकर अधिकारियों अभय कांत, सौरभ सिंह और रोहित कुमार को नामित किया है।
कर विभाग ने आरोप लगाया कि अधिकारियों ने एक अगस्त 2020 से 25 अगस्त 2021 तक धोखाधड़ी कर 1.39 करोड़ रुपये से अधिक का रिफंड प्राप्त किया। यह घोटाला तब सामने आया जब एक कर निर्धारण अधिकारी को आयकर अधिनियम की धारा 154 के तहत उन करदाताओं के लिए रिफंड की गणना का पता चलाए जो उसके दायरे से संबंधित नहीं थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.