दुनिया का सबसे बड़ा ऑपरेशन : 63 दिन में 488 फ्लाइट्स में 1.70 लाख भारतीयों को कुवैत से निकाल लाया था भारत

Spread the love

जयपुर, 1 मार्च। रूस और यूक्रेन में चल रही भीषण जंग के बीच यूके्रन में फंसे भारतीयों को लाना चुनौती बनता जा रहा है। अभी तक करीब दो हजार लोगों को ही यूक्रेन से भारत लाया जा सका है, जबकि वहां रह रहे भारतीयों की संख्या 25 हजार के आस-पास है। यूक्रेन में हो रहे हमलों के बीच वहां फंसे भारतीय जान बचाने के लिए अलग अलग देशों की सीमाओं की तरफ भाग रहे हैं।

भारत सरकार भी यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित वतन लाने के लिए भरसक प्रयास कर रही है।। यूक्रेन के पड़ोसी देशों से लगातार विशेष विमानों के जरिए भारतीयों को वतन लाया जा रहा है। ऐसा संकट 32 साल पहले भी भारत के सामने आया था। यह वक्त था जब इराक ने कुवैत पर हमला कर दिया था। उस समय कुछ हजार नहीं बल्कि डेढ़ लाख से अधिक लोगों को कुवैत से सकुशल भारत लाना एक चुनौती बन गया था।
उस समय कुवैत में हालात भयावह थे और वहां रहने वाले भारतीय जान बचाने के लिए इधर-उधर भाग रहे थे। हर तरफ दहशत का माहौल था। उस दौरान भारत के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी कि अपने लोगों को वहां से कैसे निकाला जाए। इराक कुवैत पर ताबड़तोड़ हमले कर रहा था। हर तरफ इराकी लड़ाके मौजूद थे।

इनकी रही मुख्य भूमिका

उस समय कुवैत में फंसे भारतीयों को सकुशल निकालने में केरल के मथूनी मैथ्‍यू, हरभजन सिंह बेदी, अबे वेरिकाड, वीके वैरियर और अली हुसैन ने प्रमुख निभाई थी। इन लोगों ने लगातार भारत सरकार से संपर्क बनाए रखा और भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार कार्य करते हुए बसों और गाडिय़ों के जरिए पहले कुवैत में फंसे भारतीयों को अम्‍मान पहुंचाया गया।

वर्ष 2016 में बनी फिल्म

भारत को अमेरिका के आपरेशन डेजर्ट स्टॉर्म से पहले इन सभी को वहां से निकालना था। भारत ने पहले वहां फंसे 1.70 लाख लोगों को निकालने के लिए सैन्‍य विमान भेजने का विचार किया, लेकिन इसकी इजाजत न तो यूएन दी और न ही कुवैत ने दी। इसके बाद भारत सरकार ने एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस की मदद से जार्डन व अम्‍मान के रास्‍ते इन सभी लोगों को एयरलिफ्ट किया। इस पर वर्ष 2016 में एयरलिफ्ट नाम से एक फिल्‍म भी बनी थी, जिसमें अक्षय कुमार लीड रोल में थे।

दुनिया का सबसे बड़ा एयरलिफ्ट ऑपरेशन

8 अगस्‍त 1990 को एयर इंडिया ने इन भारतीयों को लाने के लिए पहली उड़़ान भरी थी। इसके बाद लगातार 488 फ्लाइट के जरिए इन लोगों को कुवैत से भारत लाया गया। वहां से एयरलिफ्ट किए लोगों को लेकर आखिरी फ्लाइट 20 अक्‍टूबर 1990 को भारत आई थी। 63 दिनों के अंदर भारत सरकार 1 लाख 70 हजार लोगों को सुरक्षित निकाल लाने में कामयाब रही थी। भारत का ये ऑपरेशन आज तक के इतिहास में सबसे बड़ा एयरलिफ्ट ऑपरेशन था। इस आपरेशन को गिनीज बुक आफ वल्‍र्ड रिकौर्ड में शामिल किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.