हर चेहरे पर सच्ची मुस्कुराहट लाना ही लक्ष्य : ढाकाराम

Spread the love

योग पीस संस्थान ने मनाया योगमयी धार्मिक महोत्सव


जयपुर.
योगा पीस संस्थान आश्रम एवं एकम योगा संस्थान ने जयपुर के पावन तीर्थ गलताजी में पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशाचार्य महाराज, स्वामी राघवाचार्य महाराज, पुत्तुर कर्नाटक से आए विश्व विख्यात अयंगर योगा के साधक योग गुरु करुणाकर, सुजोक चिकित्सा पद्धति के विशेषज्ञ अशोक कोठारी एवं योगाचार्य ढाकाराम के संरक्षण में योगमयी वन महोत्सव मनाया।
कार्यक्रम संचालक आध्यात्मिक वक्ता एवं लेखक योगी मनीष विजयवर्गीय ने बताया कि योग प्रशिक्षक प्रशिक्षण के लिए विभिन्न प्रदेशों से जयपुर आए योगार्थियो में वैदिक सनातन संस्कार, संस्कृति एवं प्रकृति के प्रति अपने दायित्व के निर्वहन, जागरूकता एवम सभी के प्रति कृतज्ञता एवं कल्याण का होश पूर्ण भाव जागृत हो। इस उद्देश्य के तहत योगा पीस के संस्थापक योगाचार्य ढाकाराम की प्रेरणा से संस्थान परिवार के योगार्थियों- साधकों, आचार्यों एवं सहयोगियों ने श्रीगलताजी में सामूहिक हवन, पूजन, दर्शन, वन भ्रमण किया। साथ-साथ ही वहां चल रहे संस्कृत गुरुकुल के विद्यार्थियों व आचार्य से मिलकर गुरुकुल गुरु शिष्य परंपरा को नजदीक से जाना।
इस अवसर पर गलताजी पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशाचार्य महाराज ने आशीर्वचन में कहा कि योगासन एवं प्राणायाम आत्मा के परमात्मा से मिलन के मार्ग पर विशेष सहयोगी पद्धतियां है। शरीर स्वस्थ रहेगा तभी साधक योग के परम लक्ष्य को प्राप्त कर पाएगा। योग गुरु करुणाकर ने कहा कि योग का अंतिम लक्ष्य आत्मा एवं परमात्मा की अनुभूति है। योगमयी इस धार्मिक आयोजन के आयोजक विख्यात योग गुरु ढाकाराम ने अपने उद्बोधन में कहा कि योगा पीस संस्थान का उद्देश्य हर चेहरे पर सच्ची मुस्कुराहट लाना है यही सुख, शांति और आनंद का मार्ग है।
कार्यक्रम के संयोजक आचार्य मुनींद्र, आचार्य विशाल एवं भावना मोरदानी, सह संयोजक योगी भावेश एवं योगी वशिष्ठ ने विभिन्न प्रतियोगिताओं एवं व्यवस्थाओं का संपादन किया। संतो द्वारा विजेताओं को पुरूस्कार प्रदान कर प्रोत्साहित किया गया। इस अवसर पर एकम योगा संस्थापक इंजी. संप्रति सिंघवी एवम योगी महेंद्र शर्मा भी उपस्थित रहे।

About newsray24

Check Also

Jaipur के दो युवा मूर्तिकारों ने बनाई सम्राट पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा, गुजरात में होगी स्थापित

Spread the love जयपुर। जयपुर के दो युवा मूर्तिकारों द्वारा बनाई गई महान सम्राट पृथ्‍वीराज …

Leave a Reply

Your email address will not be published.