बदलते परिवेश में अपने पहनावे व बोली को रखे संजोकर : रूमादेवी

Spread the love

कौंसुलेट जनरल ऑफ इंडिया न्यूयॉर्क में हुआ उद्बोधन


जयपुर.
वर्तमान समय में दिनों दिन हो रहे आधुनिक परिवर्तन में भी हम सभी को अपनी संस्कृति से जुड़े रहने की महत्ती जरूरत है। इस बदलते परिवेश में अपने पारंपरिक पहनावे एवं बोली को संजोकर रखना हम सभी की जिम्मेदारी बनती है। यह बात अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फैशन डिजाइनर एवं सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. रूमा देवी ने अमेरिका के न्यूयॉर्क में राजस्थान एसोसिएशन ऑफ नार्थ अमेरिका (राना) और भारतीय वाणिज्य महादूतावास के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित सम्मान समारोह में कही।
न्यूयॉर्क में बसे भारतीय समुदाय के बीच महिला सशक्तिकरण एवं नया भारत को लेकर आयोजित कार्यशाला में रूमा देवी ने भारतीय अमेरिकी कम्युनिटी का आभार व्यक्त करते हुए आगे कहा कि सशक्त महिला सशक्त भारत की पहचान है। महिला आर्थिक रूप से मजबूत होगी तभी परिवार व देश मजबूत होगा। रूमा देवी ने इस दौरान कार्यक्रम एवं प्रीतिभोज में शामिल प्रवासी भारतीयों को राजस्थान और बाड़मेर आने का न्यौता भी दिया।
रूमा देवी के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत में उदयपुर की रिया दाधीच ने घूमर एवं नागौर की निधी लड्ढा ने वंदे मातरम पर मनमोहक प्रस्तुतियां दी। इस दौरान राजस्थान एसोसिएशन ऑफ नार्थ अमेरिका (राना) न्यूयॉर्क के अध्यक्ष प्रेम भंडारी ने कहा कि रूमादेवी द्वारा किए जा रहे महिला सशक्तिकरण के कार्यो से भारत की छवि और अधिक मजबूत हो रही है। वहीं कौंसुलेट जनरल ऑफ इंडिया के रणधीर जयसवाल ने रूमा देवी के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि हमें दूसरी बार आपका स्वागत करने का अवसर मिला। हमें आप पर गर्व है आप जैसी नारी शक्ति की बदौलत ही आज देश की संस्कृति पुनर्जीवित हो रही है।
इस अवसर पर एफआईए के चेयरमैन अंकुर वैद, बिहार फाउंडेशन के चेयरमैन आलोक कुमार, डॉ. राज बियानी, राणा के दीपावली महोत्सव चेयरमैन हरिदास कोटेवाला सहित बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीय एवं गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

इटंरनेशनल ट्रेड शो एवं बिजनेस कॉन्फे्रंस में हुई शामिल

डॉ. रूमा देवी ने अपनी यात्रा की शुरुआत में 6 से 7 अगस्त तक न्यूयॉर्क में आयोजित हस्तशिल्प एवं सामाजिक क्षेत्र में किए गए कार्यों सहित अपने संघर्ष और सफलता के अनुभव प्रवासी भारतीयों के साथ साझा किए। वहीं 8 से 10 अगस्त तक लॉस वेग्स शहर में आयोजित इंटरनेशनल ट्रेड शो में शिरकत की जहां भारत की एपेरल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल द्वारा स्वागत अभिनंदन किया गया। इस दौरान भारतीय पवेलियन में प्रमुख निर्यातकों से मिल उनका उत्साहवर्धन करते हुए डॉ. रूमा ने कहा कि अमेरिका में चीन की बाजार से प्रतिस्पर्धा में सुधार लाना होगा। हमारे सामने आ रही चुनौतियों का सामना करते हुए उत्पादन की क्षमता को और अधिक बढाऩा होगा। 12-13 अगस्त को अटलाटिंक सिटी न्यूजर्सी में महाराष्ट्र चेंबर ऑफ कॉमर्स इंडस्ट्रीज एंड एग्रीकल्चर और ब्रूहन महाराष्ट्र मंडल द्वारा आयोजित बीएमएम बिजनेस कॉन्फे्रंस एग्जीबिशन बिजनेस समिट में महाराष्ट्र चेंबर ऑफ कॉमर्स इंडस्ट्रीज की ओर से अतिथि वक्ता के तौर पर आमंत्रित कार्यक्रम में उपस्थित होकर प्रवासी भारतीयों एवं अमेरिकीयों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया।

तीज महोत्सव में हुई शामिल

रूमा देवी ने 14 अगस्त को न्यूजर्सी में माहेश्वरी समाज और मध्य प्रदेश व महाराष्ट्र की महिलाओं के साथ तीज महोत्सव कार्यक्रम में भाग लेकर प्रवासी परिवारों से अपनी परंपराओं और संस्कृति विरासत को संजोए रखने कि अपील की। इस दौरान भारतीय प्रदेशों की बहनों ने परंपरागत मौली, तिलक, घूमर, गीत, मेहंदी से स्वागत कर विदेश में भी स्वदेश बसा होने का एहसास करवा दिया। वहीं 15 अगस्त के अवसर पर यूएसए में भारतीय दूतावास के ध्वजारोहण कार्यक्रम में भारत के अमेरिका में एंबेसडर तरणजीत सिंह संधू ने वाशिंगटन डीसी के इंडिया हाउस में ध्वज फहराया। जहां उपस्थित होकर आमंत्रित करने के लिए आभार व्यक्त करते हुए भारतीय-अमेरिकन समुदाय को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी।
इसके अलावा वर्जीनिया, मैरीलैंड, हयूस्टन शहरों में आयोजित अलग अलग स्वागत एवं बहुमान समारोहों में गुजराती, हरियाणवी, पंजाबी और बंगाली समुदायों से मुखातिब होकर भारतीय कला एवं संस्कृति की महता व प्रासंगिकता से रुबरू करवाया। इंडियन अमेरिकन एसोसिएशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भारत की परम्परागत हस्तशिल्प कलाओं पर विचार रखे।

About newsray24

Check Also

Jaipur के दो युवा मूर्तिकारों ने बनाई सम्राट पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा, गुजरात में होगी स्थापित

Spread the love जयपुर। जयपुर के दो युवा मूर्तिकारों द्वारा बनाई गई महान सम्राट पृथ्‍वीराज …

Leave a Reply

Your email address will not be published.