पटवारी भर्ती से ईडब्ल्यूएस अभ्यर्थियों को बाहर करने का प्रयास, राजस्व मंडल कर रहा मनमानी

Spread the love

अजमेर, 22 फरवरी। राजस्व मंडल की मनमानी के चलते पटवारी भर्ती से हजारों ईडब्ल्यूएस अभ्यर्थियों बाहर करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
मामले के अनुसार इन दिनों राजस्व मंडल कार्यालय, अजमेर में पटवारी भर्ती परीक्षा 2021 में चयनिय हुए अभ्यर्थियों की दस्तावेजों की जांच का कार्य चल रहा है। इस दौरान ईडब्ल्यूएस कैटेगरी में चयनित अभ्यर्थियों से आवेदन की अंतिम तिथि तक बने ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट मांगे जा रहे हैं। जिन अभ्यर्थियों के पास आवेदन की अंतिम तिथि के बाद के ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट हैं, उन्हें मान्य नही किया जा रहा है। ऐसे में ईडब्ल्यूएस में चयनित हजारों अभ्यर्थियों के सामने समस्या खड़ी हो गई है।
राजस्व मंडल की ओर से ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के अभ्यर्थियों को कहा जा रहा है कि वे आवेदन की अंतिम तिथि तक बना प्रमाण पत्र लेकर आएं, जबकि इस भर्ती के लिए निकाले गए विज्ञापन में इस तरह के किसी नियम का उल्लेख नहीं किया गया था। न ही आवेदन करने के दौरान ऐसा कोई नियम था। ऐसे में अब काफी संख्या में ईडब्ल्यूएस कैटेगरी में चयनित अभ्यर्थियों के सामने इस भर्ती से बाहर होने का संकट खड़ा हो गया है।

कार्मिक विभाग के ये हैं निर्देश

अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार ने हाल ही में एक आदेश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि आरक्षित श्रेणी का लाभ लेने के लिए आवेदन की अंतिम तिथि तक बना प्रमाण पत्र मान्य होगा। साथ ही कार्मिक विभाग ने 20 जनवरी 2022 को परिपत्र जारी कर कहा था कि यह नियम नई भर्तियों पर लागू होगा। विभाग ने इस परिपत्र में यह भी उल्लेख किया था कि इस नियम का विज्ञप्ति में उल्लेख होना जरूरी है, लेकिन पटवारी भर्ती की विज्ञप्ति में इस तरह का कोई उल्लेख नहीं था। इसके बावजूद राजस्व मंडल के अधिकारी इसको लागू कर रहे हैं, जबकि पटवारी भर्ती परीक्षा तो वर्ष 2021 में हो गई थी और यह आदेश जनवरी 2022 में आया है।

कई अभ्यर्थियों ने बताया कि जब दो साल पहले जनवरी 2020 में इस भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए थे, तब ऐसा नियम नहीं था। इस कारण बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों ने बाद में ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र बनवाए। अभी तक हुई भर्तियों में बाद में बने प्रमाण पत्र मान्य हुए हैं। पटवारी भती में चयनित ईडब्ल्यूएस अभ्यर्थियों ने सरकार से मांग की कि राजस्व मंडल के अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश दिया जाए कि वे इस तरह की मनमानी नहीं करें व पूर्व में हुई पुरानी भर्तियों की प्रक्रिया को ही इस भर्ती में अपनाया जाए।

गौरतलब है कि राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से 5610 पदों के लिए आयोजित पटवारी भर्ती में राजस्व मंडल अजमेर दस्तावेज सत्यापन का काम करेगा। यह कार्य 31 मार्च तक चलेगा। इसमें 11339 अभ्यर्थी दस्तावेज और पात्रता जांच के लिए सूचीबद्ध हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *