भीलवाड़ा रेलवे स्टेशन पर देशभक्ति कार्यक्रम

Spread the love

आइकोनिक वीक अंतर्गत आयोजन


जयपुर.
भीलवाडा जिले के बिजौलिया कस्बे का स्वतंत्रता आंदोलन में उल्लेखनीय स्थान रहा है। देश आजादी का अमृत महोत्सव पर्व मना रहा है। भारतीय रेल द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के तहत आजादी की रेलगाड़ी और स्टेशन कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत पूरे भारतीय रेलवे पर 18 जुलाई से 23 जुलाई तक ‘आइकॉनिक वीक’ मनाया जा रहा है। उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्राधिकार में आने वाले 7 स्टेशनों की पहचान की गई है जो स्वतंत्रता संग्राम के साक्षी रहे हैं। राजस्थान के भीलवाडा जिले के बिजौलिया कस्बे का स्वतंत्रता संग्राम में अहम स्थान रहा है। बिजौलिया कस्बे की स्वतंत्रता संग्राम में वीर गाथा को रेलवे द्वारा भीलवाडा स्टेशन पर प्रदर्शित किया गया है, ताकि आमजन सेनानियों के बलिदान से रूबरू हो सके।
उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशिकिरण के अनुसार आजादी के अमृत महोत्सव के तहत स्टेशनों पर विभिन्न तरह के कार्यक्रम आयोजित कर स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में आमजन को जानकारी प्रदान कर देशभक्ति की भावना जागृत करना इस महोत्सव का प्रमुख उद्देश्य है।
उत्तर पश्चिम रेलवे के भीलवाड़ा क्षेत्र का आजादी में अहम योगदान रहा है। भीलवाड़ा स्टेशन से नजदीक बिजोलिया में वर्ष 1941 का बिजोलिया आंदोलन पूर्व मेवाड़ राज्य भू-राजस्व वसूली के खिलाफ एक किसान आंदोलन था। बिजोलिया (भीलवाड़ा जिले के बिजोलिया कस्बे के पास) के पूर्व जागीर (सामंती संपत्ति) में उत्पन्न, आंदोलन धीरे-धीरे पड़ोसी जागीरों में फैल गया। फतेह करणचरण, साधु सीताराम दास, विजय सिंह पथिक और माणिक्य लाल वर्मा ने अलग-अलग समय पर आंदोलन का नेतृत्व प्रदान किया था।
‘आइकॉनिक वीक’ के दौरान भीलवाडा स्टेशन पर सजावट, आकर्षक रोशनी, देशभक्ति नुक्कड़ नाटक, सांस्कृतिक कार्यक्रम, स्वतंत्रता सेनानियों का इतिहास तथा फोटो प्रदर्शनी, सेल्फी प्वाइंट, स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारजनों का सम्मान करना इत्यादि कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इन कार्यक्रमों का प्रमुख उद्देश्य आमजन की भागीदारी तय कर उनको स्वतंत्रता के इस महाकुंभ आजादी का अमृत महोत्सव से जोडऩा है ताकि वह सभी देश भावना से ओत-प्रोत होकर देश के विकास में अपना योगदान प्रदान कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.