प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ अभिभावकों ने खोला मोर्चा, शिक्षा मंत्री से की कार्रवाई की मांग

Spread the love

जयपुर, 26 फरवरी। राजस्थान के प्राइवेट स्कूलों की मनमानी से परेशान अभिभावकों ने इन स्कूलों के खिलाफ फिर आवाज उठाई है। शक्रवार को बड़ी संख्या में अभिभावकों ने शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला से मेल ऑनलाइन मोड पर परीक्षा का आयोजन कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों द्वारा बच्चों और अभिभावकों पर ऑफलाइन परीक्षा देने का दबाव बनाया जा रहा है। अभी कोरोना पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। ऐसे में छात्रों को ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन मोड में भी परीक्षा देने का मौका मिलना चाहिए।

दरअसल, राजस्थान में कोरोना गाइडलाइन में मिली छूट के बाद प्राइवेट स्कूलों ने ऑफलाइन मोड पर परीक्षा कराने का फैसला किया है। वहीं सरकार ने ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही मोड पर पढ़ाई कराने के आदेश दिए हैं। ऐसे में अभिभावकों ने परीक्षा के दौरान भी ऑनलाइन मोड जारी रखने की मांग की है। अभिभावकों का कहना है कि छोटे बच्चों को फिलहाल कोरोना से बचाव का टीका नहीं लगा है। ऐसे में सरकार को बच्चों को राहत देते हुए ऑनलाइन मोड में भी परीक्षा विकल्प देना चाहिए।

अभिभावकों ने कहा कि ऑफलाइन मोड के आधार पर प्राइवेट स्कूलों द्वारा अभिभावकों पर दबाव बनाया जा रहा है। कुछ अभिभावकों द्वारा आर्थिक तंगी की वजह से स्कूल की पूरी फीस जमा नहीं कराई गई है। ऐसे में उनके बच्चों को प्रताडि़त कर उन्हें परीक्षा से वंचित किया जा रहा है।

अभिभावक एकता संघ राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष मनीष विजयवर्गीय ने कहा कि प्राइवेट स्कूलों द्वारा ऑफलाइन परीक्षा का दबाव अभिभावकों पर बनाया जा रहा है। जबकि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। ऐसे में परीक्षा में ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों ही विकल्प होने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.