अब आपका चेहरा होगा हवाई टिकट

Spread the love

पेपरलेस होगा हवाई सफर
नया डिजी यात्रा इकोसिस्टम तैयार


जयपुर.
देश आज तकनीक और प्रौद्योगिकी से जुड़े उन तमाम आयामों को पार कर आगे बढ़ चुका है जहां अब चेहरा स्कैन होने के बाद हवाई सफर तक कर सकेंगे। यानि कागजी टिकट साथ लेकर चलने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। केवल इतना ही नहीं इसके साथ-साथ आपको चेक इन की लंबी कतार से भी निजात मिलेगी। जी हां एयरपोर्ट पर जल्द ही यह सेवा शुरू होने जा रही है।
देश को एक डिजिटल रूप से सशक्त समाज में बदलने के लिए पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया दृष्टिकोण के अनुरूप डिजी यात्रा उड्डयन मंत्रालय की एक पहल है। यह प्लेटफॉर्म हवाई अड्डों पर यात्रियों के डिजिटल प्रोसेसिंग चेक पॉइंट पर चेहरे की पहचान करके स्वचालित रूप से एंट्री सिक्योरिटी चेकिंग बोर्ड इन और तमाम ऐसे प्रोसेस जैसे सेल्फ बैग ड्रॉप चेक इन सुविधाएं फेस स्कैन से करने की सेवा प्रदान करता है। यह अपने उपयोगकर्ताओं को इन तमाम सुविधाओं के साथ डिजिटल अनुभव प्रदान करता है। यही डिजी यात्रा का प्रमुख उद्देश्य है। यह कागज रहित यात्रा की सुविधा देने के साथ हर पॉइंट पर पहचान जांच की झंझट से बचाएगी जिससे यात्रा करने में समय भी कम लगेगा और किसी के संपर्क में आने से बचाव होगा। कोविड के मद्देनजर यह सेवा आने वाले दिनों में काफी लाभकारी साबित हो सकती है।
जानकारी के मुताबिक पहले चरण में डिजी यात्रा अगस्त 2022 में वाराणसी और बेंगलुरु के दो हवाई अड्डों पर शुरू होने जा रही है। यात्रियों की सुविधा और समय की बचत के लिए जल्द से जल्द पेपरलेस हवाई यात्रा शुरू होगी। इसमें चेहरे के फीचर्स का इस्तेमाल होगा जिसे मशीन द्वारा स्कैन किया जाएगा।
15 अगस्त से वाराणसी और बेंगलुरु एयरपोर्ट पर डिजी यात्रा का प्रोजेक्ट शुरू होते ही यात्रियों का चेहरा स्कैन करके बायोमेट्रिक सिस्टम के जरिए हवाई सफर करने की अनुमति दी जाएगी। इसके बाद आपको बोर्डिंग पास दिखाने की जरूरत नहीं होगी और न ही किसी आईडी प्रूफ की जरूरत पड़ेगी। एयरपोर्ट पर एंट्री से लेकर बोर्डिंग तक के दौरान आपका चेहरा ही आपके लिए बोर्डिंग पासए आईडी प्रूफ के तौर पर काम करेगा।
डिजी यात्रा प्रोजेक्ट के जरिए सभी फेस रिकॉग्निशन टेक्नोलॉजी से पेपरलेस और कॉन्टेक्ट लैस हो जाएगा। इससे एयरपोर्ट पर यात्रियों के ट्रैवल प्रोसेसिंग का समय भी कम हो जाएगा। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने डिजी यात्रा की पृष्ठभूमि बताते हुए कहा कि इस परियोजना के पीछे की सोच चेहरा पहचान प्रणाली के आधार पर हवाई अड्डे पर यात्रियों की संपर्क रहित निर्बाध प्रोसेसिंग उपलब्ध कराना है।
उल्लेखनीय है कि कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के तहत 2019 में एक संयुक्त उद्यम कंपनी के तौर पर डिजी यात्रा फाउंडेशन (डीवाईएफ) को स्थापित किया गया है। डिजी यात्रा फाउंडेशन दरअसल एक अखिल भारतीय इकाई और यात्री आईडी सत्यापन प्रक्रिया का संरक्षक होगा। ये संयुक्त उद्यम, स्थानीय हवाई अड्डा बायोमेट्रिक बोर्डिंग प्रणाली के लिए डिजी यात्रा दिशा-निर्देशों द्वारा परिभाषित विभिन्न अनुपालनों और दिशा.निर्देशों सुरक्षा, इमेज क्वालिटी, डेटा की गोपनीयता पर दिशानिर्देश सहित के नियमित ऑडिट करेगा।
पहली बार डिजी यात्रा के जरिए यात्रा करने वाले यात्रियों को पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंसए पासपोर्टए वोटर आईडी आदि को स्कैन कर रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद कभी भी डिजी यात्रा सुविधा से जुड़े एयरपोर्ट से गुजरते समय यात्री इसका लाभ उठा सकेंगे। अगले साल मार्च तक 5 और एयरपोर्ट पर यह सुविधा शुरू हो जाएगी जिसमें पुणे, विजयवाड़ा, कोलकाता, दिल्ली और हैदराबाद शामिल हैं।
कनेक्टेड पैसेंजर्स, कनेक्टेड एयरपोट्र्स, कनेक्टेड फ्लाइंग और कनेक्टेड सिस्टम्स जैसे 4 अहम पिलर पर डिजी यात्रा प्लेटफॉर्म बनेगा। इस सिस्टम में गोपनीयता के मुद्दों का विशेष ध्यान रखा गया है। ये विकेन्द्रीकृत मोबाइल वॉलेट आधारित पहचान प्रबंधन प्लेटफॉर्म मुहैया कराता है जो सस्ता है और गोपनीय है। संशोधित डिजी यात्रा दिशानिर्देशों की मंजूरी के बाद 18 जुलाई 2022 को डीजीसीए द्वारा एक वैमानिकी सूचना परिपत्र प्रकाशित किया गया।
डिजी यात्रा आईडी बनाने के लिए नाम, ईमेल, आईडी, मोबाइल नंबर, पहचान पत्र, मतदाता आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार इत्यादि जमा करने पर डिजी यात्रा आईडी बनाई जाएगी। टिकट बुक करते समय पैक्स इस नंबर को उद्धृत कर सकता है। एयरलाइंस द्वारा डिजी यात्रा आईडी सहित पैक्स डेटा डिपार्चर यानि प्रस्थान हवाई अड्डे पर भेजी जाएगी। इस प्रकार यह परियोजना यात्रियों को बिना किसी कागज या बिना किसी के संपर्क में आए विभिन्न चेक पॉइंट से गुजरने में सेवा उपलब्ध कराएगा।

About newsray24

Check Also

लायंस क्लब के शिविर में 280 रोगियों की नेत्र जांच

Spread the love मदनगंज किशनगढ़. लायन्स क्लब किशनगढ़ क्लासिक के तत्वावधान में जिला अंधता निवारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published.