सांसद किरोड़ी मीणा ने की हिंदू विरोधी फरमान पर रोक की मांग

Spread the love

राजस्थान के थानों-पुलिस कार्यालयों में मंदिर निर्माण पर रोक के आदेश पर बवाल
संत समाज ने दी आंदोलन की चेतावनी


जयपुर.
प्रदेश के थानों-पुलिस कार्यालयों में मंदिर निर्माण पर रोक के आदेश पर बवाल मच गया है। राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा ने इसे हिंदू विरोधी फरमान बताते हुए आदेश पर तुरंत रोक लगाने की मांग की है। राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए किरोड़ी ने आरोप लगाया कि इससे कांग्रेस का हिंदू विरोधी चेहरा सामने आ गया है।
राजस्थान पुलिस की ओर से इस मामले में जारी किए गए आदेश को लेकर मीणा ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। मीणा ने आरोप लगाया कि प्रदेश में बेपटरी हो चुकी कानून व्यवस्था को संभालने की बजाय राजस्थान पुलिस इस प्रकार के बेमतलब के आदेश निकालने में अपनी ऊर्जा और समय नष्ट कर रही है। हिंदू विरोधी फरमान को सरकार बिना किसी देरी के वापिस लें। राजस्थान पुलिस के इस निर्णय से कांग्रेस का हिंदू विरोधी चेहरा उजागर हो गया है। मीणा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से सवाल करते हुए पूछा है कि आप तो स्वयं को गांधीवादी कहते हो गांधी जी तो अपने हर कार्यक्रम की शुरूआत रघुपति राघव राजाराम से करते थे। आपको मंदिरों से तकलीफ क्यों है। उन्होंने पुलिस की इस आदेश को तत्काल निरस्त करवाने की मांग की है।
इसी तरह संत समाज के राष्ट्रीय प्रवक्ता स्वामी सौरभ राघवेंद्र आचार्य महाराज ने इस आदेश पर नाराजगी जताई है। स्वामी सौरभ राघवेंद्र ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर चेतावनी दी कि अगर 7 दिन में आदेश वापस नहीं लिया तो संत समाज मजबूर होकर सडक़ों पर धरने पर बैठेगा। इस विषय पर संत समाज के राष्ट्रीय प्रवक्ता
स्वामी सौरभ राघवेंद्र आचार्य महाराज बुधवार को राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलकर मामले से अवगत कराएंगे।

शिक्षा मंत्री कल निकालेंगे ऑनलाइन लॉटरी

निशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के अंर्तगत प्रदेश के समस्त गैर सरकारी विद्यालयों में आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के निशुल्क प्रवेश के लिए वरीयता क्रम निर्धारण के लिए बुधवार को शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा द्वारा शिक्षा संकुल में ऑनलाइन लॉटरी निकाली जाएगी। यह ऑनलाइन लॉटरी बुधवार 27 अक्टूबर शाम 4 बजे शिक्षा संकुल के पंचंम ब्लॉक के चतुर्थ तल पर स्थित सभागार में निकाली जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.