मोती डूंगरी गणेश मंदिर का लड्डू अब एफएसएसएआई सर्टिफाइड

Spread the love

हाइजीनिक ऑफरिंग टू गॉड श्रेणी का मिला प्रमाण पत्र


जयपुर.
जयपुर के प्राचीन मंदिरों में से एक मोती डूंगरी गणेश मंदिर को राज्य का पहला एफएसएसएआई सर्टिफिकेट मिला है। जवाहरलाल नेहरू मार्ग के पास स्थित इस मंदिर के प्रसाद को ब्लिसफुल हाइजीनिक ऑफरिंग टू गॉड श्रेणी का सर्टिफिकेट मिला है। 
मोतीडूंगरी गणेश मंदिर के प्रसाद को फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने प्रमाण पत्र दिया हैं। प्रदेश का यह पहला मंदिर है जिसे एफएसएसएआइ ने मंदिर के प्रसाद को ब्लिसफुल हाइजीनिक ऑफरिंग टू गॉड श्रेणी का सर्टिफिकेट दिया हैं। मंदिर के प्रसाद बनाने और प्रसाद चढ़ाने की प्रक्रिया के आधार पर यह प्रमाण पत्र दिया गया है। प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग और खाद्य सुरक्षा आयुक्तालय के लिए एफएसएसएआइ से तीसरी बार सराहना मिली है। मोतीडूंगरी गणेश मंदिर के प्रसाद को विशिष्ट गुणवत्ता स्वाद शुद्धता हाइजीन आदि मानकों पर खरा उतरने के बाद एफएसएसएआई से यह सम्मान मिला है। अभी तक अंकलेश्वर, महाकालेश्वर समेत देश के करीब 10 मंदिरों के प्रसाद को ही यह प्रमाण पत्र मिला है। 
इससे पहले एफएसएसएआई ने विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने के लिए राजस्थान के 37 आवासीय विद्यालयों को इट राइट स्कूल सर्टिफिकेट दिया था। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग राजस्थान ने दावा किया है देश के सभी राज्यों में पहली बार राजस्थान के इतने विद्यालयों को यह सर्टिफिकेट मिला है। आवासीय विद्यालयों में रहने वाले विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता, हाइजीनिक और पौष्टिक खाना उपलब्ध करवाने के लिए यह प्रमाण पत्र दिया था। इससे पहले भी निर्धारित मानकों को पूरा करने पर जयपुर की दो जगहों को क्लीन स्ट्रीट फूड हब का प्रमाण पत्र मिला। इसमें मसाला चौक एवं मानसरोवर चौपाटी शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.