भारत साढ़े बारह प्रतिशत से अधिक की विकास दर प्राप्त करेगा

Spread the love

सत्येन्द्र शर्मा

जयपुर. भारत की 8.4% की विकास दर की घोषणा होने से पूरा विश्व चकित है। इस समय दुनिया के कई बड़े देश जिनमे विकसित देश भी शामिल है और धीमी विकास दर झेल रहे हैं। ऐसी हालत में भारत ने 8.4 प्रतिशत की विकास दर प्राप्त करके एक इतिहास रच दिया है। लेकिन यह तो अभी शुरुआत है भारत दो अंको की विकास दर प्राप्त करने की और तेजी से आगे बढ़ रहा है। अगले 2 साल में भारत साढे 12% की से अधिक के विकास दर प्राप्त कर ले तो कोई आश्चर्य वाली बात नहीं होगी।

भारत का आधारभूत ढांचा जिसमें सड़के, हाईवे एक्सप्रेसवे, एयरपोर्ट और विशेष कर रेलवे का तो नजर ही बदलने लगा है। अगले दो-तीन सालों में ट्रेनों की स्पीड और बढ़ेगी तब देश की अर्थव्यवस्था भी तेज दौड़ने लगेगी। वर्ष 2030 तक पूरे रेलवे ट्रैक के विद्युतीकरण का लक्ष्य है इससे एक तो प्रदूषण कम होगा और भारत की माल भाड़ा लागत भी कटेगी जिससे महंगाई कम करने में भी मदद मिलेगी। देश के आधारभूत ढांचे के मजबूत होने से अर्थव्यवस्था भी कई गुना मजबूत होगी और जीडीपी की ग्रोथ और बढ़ेगी।

देश के युवाओं के कौशल विकास की क्षमता बढ़ाने में अब निजी क्षेत्र भी अधिक से अधिक सहयोग करने लगा है क्योंकि विदेश में भारतीय कौशल संपन्न युवाओं की मांग बढ़ रही है अधिकतर विकसित देशों में भारत के कुशल श्रम की मांग बढ़ रही है जो भारत के लिए काफी लाभकारी साबित होगी। इससे एक तो देश की अर्थव्यवस्था को रेमिटेंस के रूप में आने वाले पैसे से मदद मिलेगी इस और उसके साथ ही विदेश में भारतीय संस्कृति का प्रचार प्रसार होने से भी भारत की छवि और बेहतर होगी। अभी हाल ही में है जर्मनी, फ्रांस, इजराइल, ताइवान आदि देशों में भारत के कुशल श्रमिकों और पेशेवरों की मांग बढ़ी है। ऐसा कई और देशों में होने की संभावना बढ़ रही है इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को काफी लाभ मिलेगा। इसका एक लाभ यह भी होगा कि अधिक से अधिक भारतीय युवा कौशल विकास प्राप्त करने में जुटेंगे जिससे देश में बेरोजगारी कम होगी।

आधारभूत ढांचे के तीव्र विकास से देश की खेती बाड़ी का भी नजारा बदल जाएगा। वर्तमान में देश की कृषि विकास दर कम है लेकिन इसके आधुनिकीकरण का पूरा प्रयास जारी है। ट्रैक्टर के बाद अगले कुछ सालों में ड्रोन खेती सामान्य हो जाएगी। वही जैविक खेती कभी रकबा बढ़ने से खेतों की सेहत मिट्टी की सेहत सुधरेगी। देश के आधारभूत ढांचे की मजबूत होने और विदेशों में भी निर्यात बढ़ने से खेती बाड़ी का भी नजर पूरी तरह से बदल जाएगा।

राजनीतिक स्थिरता का असर


देश में इस समय मजबूत केंद्र सरकार होने के कारण विकास दर में तेजी आई है। वर्तमान सरकार के ही तीसरी बार आने में किसी को कोई संदेश नहीं है। इसका भी लाभ भारत को पूरी तरह से मिलेगा और आने वाले कुछ सालों में देश में बड़े बदलाव होंगे जो दुनिया को भी प्रभावित करेंगे। भारतीय अर्थव्यवस्था एक बार पांच ट्रिलियन डॉलर की बनने के बाद जो गति पकड़ेगी वह सारी दुनिया को चकित कर देने वाली होगी।

2026- 27 से भारत साढ़े बारह से आगे बढ़कर 13 और 22% की भी जीडीपी ग्रोथ पकड़ ले तो कोई बड़ी बात नहीं होगी। कुल मिलाकर अब भारत की अर्थव्यवस्था के पूरी तरह आगे बढ़ने का समय आ गया है और सभी भारतीयों को मिल जुल कर अपने देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ना चाहिए।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार है। सम्पर्क – satyendrashar@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *