ऐतिहासिक होगा राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेलों का आयोजन : गहलोत

Spread the love

राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेलों के शुभंकर का किया अनावरण
मुख्यमंत्री ने थीम सॉन्ग को भी किया जारी
40 करोड़ रूपए से होगा ग्राम पंचायत से लेकर राज्य स्तर तक खेलों का आयोजन
लगभग 30 लाख प्रदेश वासी लेंगे भाग
ग्रामीण ओलम्पिक से विकसित होगी एक नई खेल संस्कृति


जयपुर.
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 22 अगस्त को सवाई मानसिंह स्टेडियम के इनडोर हॉल में राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेल के शुभंकर ‘शेरू’ का अनावरण किया एवं थीम सॉन्ग भी जारी किया। उन्होंने कहा कि 29 अगस्त से राज्य में ग्रामीण ओलम्पिक खेलों का आयोजन होने जा रहा है। इसके लिए 40 करोड़ रूपए के बजट का प्रावधान किया गया है। ग्रामीण खिलाडिय़ों को खोज कर आगे लाना उनकी प्रतिभा को तराशना, उन्हें प्रोत्साहित करना तथा आमजन में खेल भावना को बढावा देना राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक्स का मुख्य उद्देश्य है। युवाओं के साथ बुर्जुगों एवं महिलाओं ने भी बड़े स्तर पर खेलों में भाग लेने के लिए पंजीकरण करवाया है। आज राजस्थान में खेलों के प्रति जो माहौल बन रहा है वह अविश्वसनीय है।
सीएम गहलोत ने कहा कि ग्रामीण ओलम्पिक सभी आयुवर्ग के लिए है। इन खेलों में लगभग 30 लाख खिलाडी भाग ले रहे हैं तथा 2 लाख टीमें बनाई गई हैं। उन्होंने कहा कि यदि राज्य के प्रतिभावान खिलाडियों की खोज कर उन्हें उचित प्रशिक्षण दिया जाए तो वे राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर देश एवं प्रदेश का नाम रोशन कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा खेलों के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर खेल मैदान तैयार किए गए हैं। खिलाडियों के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है तथा प्रदेश में एक नई खेल संस्कृति का निर्माण हो रहा है। उन्होंने आह्वान किया कि खेलों के सफल आयोजन में आमजन के साथ स्थानीय जनप्रतिनिधि अपनी भागीदारी उत्साहपूर्वक निभाएं।
राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेलों का आयोजन ग्राम पंचायत स्तर पर 29 अगस्त से 1 सितंबर, ब्लॉक स्तर पर 12 सितंबर से 15 सितंबर, जिला स्तर पर 22 सितंबर से 25 सितंबर तथा राज्य स्तर पर 2 अक्टूबर से 5 अक्टूबर तक प्रस्तावित है। खेलों का आयोजन खेल विभाग, ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग, शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग एवं स्थानीय प्रशासन के समन्वय से किया जा रहा है। राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेलों में कबड्डी बालक-बालिका वर्ग, शूटिंग बॉल बालक वर्ग, खो-खो बालिका वर्ग, वॉलीबॉल बालक-बालिका वर्ग, टेनिसबॉल, क्रिकेट बालक-बालिका वर्ग एवं हॉकी बालक-बालिका वर्ग सहित 6 खेल शामिल होंगे।

राज्य में खिलाडियों को मिल रहा प्रोत्साहन

सीएम गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ने ओलम्पिक, कॉमनवेल्थ, एशियाड सहित राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतने वाले खिलाडियों को दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि को बढाया है। स्वर्ण पदक विजेता को 75 लाख से बढाकर 3 करोड, रजत पदक विजेता को 50 लाख से 2 करोड और कांस्य पदक विजेता को 30 लाख से 1 करोड रुपए राशि दी जा रही है। इसके अलावा एशियाई एवं राष्ट्रमण्डल खेलों में स्वर्ण, रजत तथा कांस्य पदक जीतने पर दी जाने वाली 30 लाख, 20 लाख एवं 10 लाख रुपए की ईनामी राशि को बढाकर क्रमश: 1 करोड 60 लाख एवं 30 लाख रुपए किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 229 खिलाडियों को आउट ऑफ टर्न पॉलिसी के तहत सरकारी नौकरी दी गई है। इसके अलावा प्रशिक्षकों के लिए भी पेंशन स्कीम लागू की गई है। खिलाडियों के लिए सरकारी नौकरियों में 2 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है तथा उन्हें डीएसपी स्तर तक की नौकरियां दी जा रही हैं। इससे खिलाडियों तथा प्रशिक्षकों का भविष्य सुरक्षित हुआ है।

खेलों का आधारभूत ढांचा हो रहा मजबूत

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में खेल इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए अहम फैसले लिए हैं। मेजर ध्यानचंद योजना के अंतर्गत प्रत्येक ब्लॉक में चरणबद्ध रूप से खेल स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। पैरा खिलाडियों के लिए जयपुर एवं जोधपुर में आवासीय पैरा खेल अकादमी का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जयपुर और जोधपुर में हाइ परफॉर्मेंस स्पोट्र्स ट्रेनिंग एंड रिहेबिलीटेशन सेंटर एवंं जोधपुर में राजस्थान स्टेट स्पोट्र्स इंस्टीट्यूट की स्थापना की गई है। जोधपुर और जयपुर में दिव्यांग खिलाडियों के लिए पैरा एकेडमी बनने जा रही है। बीकानेर में शानदार स्टेडियम का निर्माण हुआ है। उत्कृष्ट खेल सुविधाओं का विस्तार ग्राम पंचायत स्तर तक करने का प्रयास किया जा रहा है।

क्रीडा परिषद् की अध्यक्षा कृष्णा पूनियां ने बताया कि प्रदेश की गांव-ढाणियों में ग्रामीण ओलम्पिक का आयोजन होने जा रहे हैं। इसे लेकर लेकर आमजन में उत्साह है। बच्चे, युवा तथा वृद्ध सभी इनकी तैयारियों में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में राष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतने वाले खिलाडियों को भी सरकारी नौकरी दी जा रही है। राज्य में खेलों में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कार्यकाल में अभूतपूर्व कार्य हुआ है।
इस अवसर पर शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला उद्योग मंत्री शकुन्तला रावत, राजस्व मंत्री रामलाल जाट, खेल राज्य मंत्री अशोक चांदना, पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा, मुख्य सचिव उषा शर्मा, आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत, राजस्थान किसान आयोग के अध्यक्ष महादेव सिंह खंडेला, बंजर भूमि विकास बोर्ड के अध्यक्ष संदीप चौधरी, राजस्थान युवा बोर्ड के अध्यक्ष सीताराम लाम्बा, समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष अर्चना शर्मा, राजस्थान क्रीडा परिषद के उपाध्यक्ष सतवीर चौधरी, विधायक रफीक खान सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

About newsray24

Check Also

बुढ़ा नाला पुनरुद्धार परियोजना के कार्य समय पर संपादित हों : गहलोत

Spread the love मुख्यमंत्री ने लिखा पंजाब के सीएम को पत्र- प्रदूषित जल का नदियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published.