गणगौर उत्सव : महिलाओं ने ईसर-गणगौर की पूजा कर की अखंड सुहाग की कामना

Spread the love

किशनगढ़, 4 अप्रेल। हिंदुस्तान को त्योहारों का देश कहा जाता है। हिंदुस्तान में पूरे वर्ष समय-समय पर अनेक त्यौहार मनाए जाते हैं। इन त्योहारों में गणगौर भी एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह त्यौहार होली के दूसरे दिन से मनाना चालू कर देते हैं। गणगौर के दिन इस त्यौहार को महिलाएं अपने सुहाग की रक्षा के लिए सज धज कर ईसर और गणगौर की पूजा करती हैं व ईश्वर और गणगौर से अखंड सौभाग्यवती रहने का आशीर्वाद प्राप्त करती हैं। पूजा करने के बाद सनातन संस्कृति के अनुसार कथा -कहानी सुनती है।

इन पौराणिक कथा -कहानियों में मानव व धर्म के हित की व प्रकृति की सुरक्षा के हित की बातें सुनने की सीख मिलती है। सर्वप्रथम गणेश जी को पूज कर हम रिद्धि -सिद्धि, धन -दौलत, सुख -समृद्धि ,स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते हैं। प्रकृति व वेद एक दूसरे के पूरक हैं। इन कथा – कहानियो में सुनकर बहुत ही खुशी का अनुभव करते हैं व परिवार, समाज व राष्ट्र की जिम्मेदारी लेने की भावना से मातृशक्ति गौरवान्वित होती हैं। इस कार्यक्रम में उपस्थित मदनगंज किशनगढ़ कृष्णापुरी की संतोष पारीक, बसंती शर्मा, संतोष शर्मा, इंदिरा शर्मा, दीक्षा शर्मा, पिंकी शर्मा, रिया शर्मा, प्रिया शर्मा, पूजा वैष्णव, अनिता जांगिड़, कोमल शर्मा और सभी वार्ड की मातृशक्ति उपस्थित रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *