शहीद की विदाई में रोया हर गांव, फूलों के कालीन पर आखिरी सफर

Spread the love

पार्थिव देह का स्वागत ऐसा कि 18 किमी की दूरी में लग गए 3 घंटे

सीकर, 1 अगस्त। संयुक्त राष्ट्र मिशन में अफ्रीका के कांगो में शहीद हुए जवान की पार्थिव देह सोमवार को पैतृक गांव बगडियों का बास पहंची। इससे शहीद हुए बीएसएफ में हैड कांस्टेबल शिशुपाल सिंह की पार्थिव देह रविवार को रात बलारां थाने पहुंची थी। यहां से तिरंगा यात्रा के साथ सोमवार को सुबह पैतृक गांव बगडियों का बास पहुंची। शहीद की अंतिम विदाई में जनसमूह उमड़ पड़ा। इस दौरान देशभक्ति के गगनभेदी नारों के साथ पुष्प वर्षा से जगह-जगह स्वागत किया गया।

18 किलोमीटर लंबी तिरंगा रैली

गौरतलब है कि रविवार को शहीद की पार्थिव देह दिल्ली पहुंची थी। वहां से सडक़ के रास्ते बलारां लाया गया, जहां से सोमवार सुबह वाहनों के भारी लवाजमे के साथ तिरंगा रैली निकाली,जो 18 किलोमीटर की दूरी करीब 3 घंटे में तय कर गांव बगडिया का बास पहुंची। इस दौरान ढोलास, खिरवा, डूडवा आदि गांवों में ग्रामीण जनों व स्कूल के बच्चों ने गगनभेदी नारों के साथ पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। शहीद की पार्थिव देह घर पहुंचने पर माता पिता, पत्नी बेटा बेटी व परिजनों सहित राजनेताओं, प्रशासनिक अधिकारियों ग्रामीण जनों ने श्रद्धांजलि दी।

जिसने भी सुना, पहुंचा अंतिम यात्रा में

इस अवसर पर पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा, सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया, श्रीमाधोपुर के पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा, सीकर के पूर्व विधायक रतन जलधारी, नीम का थाना के पूर्व विधायक प्रेमसिंह बाजौर, धोद के पूर्व विधायक गोवर्धन वर्मा, दिनेश जोशी, भागीरथ गोदारा, भाजपा जिलाध्यक्ष इन्दिरा चौधरी, भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हरिराम रणवां,जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी सहित स्थानीय प्रशासन व हजारों ग्रामीण जन मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.