पैसे के लेन देन को लेकर विवाद, पेट्रोल डालकर महिला शिक्षक को जिंदा जलाया

Spread the love

लोग भी खड़े-खड़े वीडियो बनाते रहे, कुछ मुंह फेर कर चले गए, नहीं आए मदद करने

जयपुर। राजस्थान की राजधानी जयपुर के ग्रामीण क्षेत्र से बड़ी घटना सामने आई है। यहां पैसों के लेनदेन के मामले में एक महिला शिक्षक को दस अगस्त को जिंदा जला दिया गया। जघन्य अपराध की इस घटना पर हैरान करने वाला रवैया पुलिस और प्रत्यक्षदर्शियों का सामने आया। मृतक महिला ने इस घटना से पहले सात अगस्त को पुलिस को बाकायदा शिकायत लिख कर सुरक्षा की गुहार की, लेकिन पुलिस नहीं चेती। यहां तक की दस अगस्त को हुई इस घटना के बाद भी पुलिस एक्शन में नहीं आई। मंगलवार को पीड़िता की अस्पताल में मृत्यु होने के बाद महिला के बयान के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज किया, लेकिन किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है।

इंसानियत को शर्मसार करने वाली यह घटना 10 अगस्त को जयपुर से करीब 50 किलोमीटर दूर रायसर गांव की है। सुबह आठ बजे रैगरों के मोहल्ले में वीणा मेमोरियल स्कूल की टीचर अनीता रेगर (32) अपने बेटे राजवीर (6) के साथ स्कूल जा रही थी। इस दौरान कुछ बदमाशों ने घेरकर उस पर हमला कर दिया। अनीता खुद को बचाने के लिए पास ही में कालू राम रैगर के घर में घुस गई।उसने 100 नंबर और रायसर थाने को सूचना दी, लेकिन पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। इसके बाद आरोपियों ने पेट्रोल छिड़ककर अनिता को आग लगा दी। महिला चीखती, चिल्लाती रही, लेकिन लोग मदद की जगह वीडियो बनाते रहे।

सात दिन बाद वीडियो आया सामने

सात दिन बाद यह वीडियो सामने आया तो उसमें लोग मदद करने की जगह मुंह फेर कर इधर-उधर जाते नजर आ रहे है। वह बचने के लिए चीख पुकार मचाती रही, इधर उधर दौड़ लगाती रही और बाद में कुछ देर में अचेत हो गई। लेकिन लोग तमाशा देखते रहे। बाद में महिला का परिवार मौके पर पहुंचा तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन तब तक 80 प्रतिशत से ज्यादा झुलस चुकी थी। जलाने की घटना 10 अगस्त की है और महिला ने मंगलवार देर रात अस्पताल में दम तोड़ा। इस दौरान महिला के परिवार ने दो बार पुलिस से इस मामले में कार्रवाई की गुहार भी लगाई, लेकिन पुलिस ने किसी तरह का कोई एक्शन नहीं लिया। घटना के बाद अब आरोपी फरार हैं। उनकी तलाश की जा रही है।

पुलिस की भूमिका संदिग्ध

घटना में रायसर पुलिस की भूमिका भी संदिग्ध है। पुलिस पर लापरवाही बरतने के आरोप और कार्रवाई नहीं करने के आरोपों को लेकर 12 अगस्त को पीड़ित परिवार डीजीपी से भी मिला था। डीजीपी ने जल्द कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। मंगलवार देर रात अनिता ने एसएमएस अस्पताल में दम तोड़ दिया। मृतका के पति ताराचंद ने बताया कि गांव के ही गोकुल, आनंदी, रामकरण, बाबूलाल, प्रहलाद रेगर (वार्ड पंच), मूलचंद, सुरेश चंद, सुलोचना, सरस्वती, विमला ने पेट्रोल छिड़ककर आग लगाई है। उसकी पत्नी ने लोगों से जान बचाने की गुहार की, लेकिन बदमाशों के डर से किसी ने भी अनिता की मदद नहीं की। ताराचंद ने बताया कि ये सभी लोग हमारे रिश्तेदार हैं। आरोपी बाबूलाल और प्रहलाद चचेरे भाई हैं।

नहीं हुई कोई गिरफ्तारी

फिलहाल इस मामले में अनुसंधान जारी है। किसी भी तरह की गिरफ्तारी नहीं की गई है। मृतक महिला के बयानों के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। घटना दस अगस्त की है और मामला 12 अगस्त को दर्ज किया गया है।- धर्मेंद्र यादव, एसीपी , जयपुर ग्रामीण

About newsray24

Check Also

लायंस क्लब के शिविर में 280 रोगियों की नेत्र जांच

Spread the love मदनगंज किशनगढ़. लायन्स क्लब किशनगढ़ क्लासिक के तत्वावधान में जिला अंधता निवारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published.