पुराने रेलवे स्टेशन परिसर में हो उप नगरीय रेलवे स्टेशन का निर्माण

Spread the love

अजमेर सांसद भागीरथ चौधरी ने रेल मंत्री को लिखा पत्र
मॉल निर्माण और अतिरिक्त नवीन आरक्षण केंद्र खुलवाने की भी रखी मांग


अजमेर.
अजमेर सांसद भागीरथ चौधरी को किशनगढ़ शहरी क्षेत्र के विभिन्न वाशिंदों व्यापारियों, जनप्रतिनिधियों आदि ने समय-समय पर जनसुनवाई के दौरान किशनगढ़ स्थित पुराने रेल्वे स्टेशन परिसर में रिक्त पड़ी भूमि पर उपनगरीय रेलवे स्टेशन के निर्माण के साथ-साथ मॉल निर्माण, मार्केट निर्माण एवं अतिरिक्त नवीन आरक्षण केन्द्र के संचालन की मांग की जाती रही हैं। इस पर सांसद चौधरी ने केन्द्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, रेलवे बोर्ड के चैयरमेन एवं महाप्रबंधक उत्तर पश्चिमी रेल्वे जयपुर को पत्र लिखकर इस विषय पर आवश्यक सक्षम स्वीकृति रेलवे मंत्रालय से जारी कराने की महत्ती आवश्यकता बताई और पत्र के माध्यम से उन्हें अवगत कराया कि संसदीय क्षेत्र अजमेर में स्थित विश्वविख्यात एवं औद्योगिक मार्बल नगरी किशनगढ़ का नवीन रेलवे स्टेशन जो वर्ष 2018 से संचालित है। वर्तमान नगरीय क्षेत्र की मुख्य आबादी 2.50 लाख से लगभग 7 से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जबकि दिल्ली-मुंबई माल भाड़ा गलियारा योजना के निर्माण के पूर्व किशनगढ़ में संचालित रेलवे स्टेशन मुख्य आबादी क्षेत्र के बीच एवं मार्बल औद्योगिक क्षेत्र के समीप स्थापित था। वर्तमान नगरीय क्षेत्र की 90 प्रतिशत आबादी को इस नये रेल्वे स्टेशन के संचालन के पश्चात से ही काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है।
वहीं शहरी क्षेत्र के दूसरी छोर पर जयपुर रोड पर चिडिया बावड़ी के पास नवीन बस स्टैण्ड संचालित है जो वर्तमान नवीन रेल्वे स्टेशन से लगभग 8-9 किलोमीटर दूर है। जबकि पुराना रेलवे स्टेशन मात्र 1-2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित था। इस प्रकार नवीन रेल्वे स्टेशन पर आने-जाने वाली नगरीय आबादी को वर्तमान में अनावश्यक श्रम समय एवं टैक्सी भाड़ा का आर्थिक भार वहन करना पड रहा हैं। दूसरी ओर समुचित यातायात साधनों के अभाव में उक्त नवीन रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वाले यात्रियों को यात्रा कर किशनगढ़ नगरीय क्षेत्र मे स्थित विभिन्न कॉलोनियों जैसे मित्र निवास, इन्द्रानगर, चैनपुरिया, शिवाजी नगर, नया शहर एवं पुराना शहर आदि स्थानों पर आने जाने में अत्यन्त कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा हैं। साथ ही आसपास के 40-50 किलोमीटर मे स्थित ग्रामों के ग्रामवासियों का तो उक्त स्टेशन पर आवागमन दुश्वर सा हो गया हैं।
पूर्व में किशनगढ़ का पुराना रेल्वे स्टेशन नगर के मध्य में स्थित था जहां पर शहरी क्षेत्र के वाशिन्दों, व्यापारियों एवं आने जाने वाले आसपास के 60-70 किलोमीटर तक के उपखण्ड वासियों को काफी सुविधापूर्वक आवागमन उपलब्ध था। माल भाड़ा गलियारा योजना के चलते उक्त रेल्वे स्टेशन को अन्यत्र शिफ्ट किये जाने के पश्चात उक्त स्थान पर वर्तमान में रेलवे की उक्त भूमि बडेे स्तर पर खाली पड़ी हुई हैं। जहां पर रेल मंत्रालय नगर की आवश्यकताओं को मध्यनजर रखते हुए नवीन उपनगरीय रेलवे स्टेशन की स्थापना, उपलब्ध खाली जमीन पर मॉल निर्माण एवं अतिरिक्त नवीन रेलवे आरक्षण केन्द्र की स्थापना जैसे कार्यो की महत्ती स्वीकृति जारी कर स्थानीय लोगों को राहत प्रदान करा सकता हैं।   चूंकि गत 15-18 वर्षो में किशनगढ़ नगरीय आबादी में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है जिस कारण आज किशनगढ़ की आबादी से राज्य के 20 जिला मुख्यालय भी पिछड़े हुये है और भविष्य में भी यहां औद्योगिक, व्यापारिक गतिविधियों के चलते जनसंख्या का विस्तार सुनिश्चित है।
अत: औद्योगिक, मार्बल एवं हाईवे नगरी किशनगढ़ में भी राज्य के महानगरों जैसे जयपुर में स्थित गांधीनग, कनकपुरा, जगतपुरा तथा अजमेर में स्थित मदार, आदर्शनगर, दौराई आदि स्थित उपनगरीय रेल्वे स्टेशन जैसा एक नवीन उपनगरीय रेल्वे स्टेशन पूर्व संचालित रेल्वे स्टेशन किशनगढ़ परिसर में ही निर्मित किये जाने के साथ-साथ उपलब्ध खाली जमीन पर मॉल निर्माण करवाया जाए। साथ ही अतिरिक्त नवीन रेलवे आरक्षण केन्द्र खुलवाने की विभागीय कार्यवाही कराते हुये रेल मंत्रालय, भारत सरकार एवं राज्य स्तरीय रेल्वे उच्चाधिकारियों से सक्षम स्वीकृति जारी करावें। ताकि नगर की मुख्य आबादी एवं आमजन को रेलवे यात्रा के सुगम आवागमन की सुविधा का अधिकाधिक लाभ स्थानीय स्तर पर मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *