कोचिंग हब में होगा 140 कोचिंग का लॉटरी से आवंटन

Spread the love

नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री ने किया पुस्तिका का विमोचन
राजस्थान आवासन मण्डल के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट देश के पहले कोचिंग हब में निर्मित संस्थानिक सम्पत्ति की आवंटन प्रक्रिया 25 जुलाई से प्रारम्भ
ऑनलाइन आवेदन 25 जुलाई से 25 अगस्त 2022 तक
अब कोचिंग हब बनेगा जयपुर की नई पहचान


जयपुर.
राजस्थान आवासन मण्डल द्वारा जयपुर के प्रताप नगर में विकसित देश के पहले एवं महत्वाकांक्षी कोचिंग हब प्रोजेक्ट में निर्मित संस्थानिक सम्पत्ति की आवंटन प्रक्रिया प्रारंभ होने जा रही है।
नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री शान्ति धारीवाल ने मंगलवार को यहॉ हॉस्पिटल रोड स्थित अपने राजकीय निवास पर इसके आवंटन से संबंधित पुस्तिका एवं पोस्टर का विमोचन किया। प्रमुख शासन सचिव नगरीय विकास कुंजीलाल मीणा एवं आवासन आयुक्त पवन अरोडा की मौजूदगी में आयोजित एक सादे कार्यक्रम में नगरीय विकास मंत्री ने कहा कि आवासन मण्डल ने लीक से हटकर काम करते हुए प्रदेश के आधारभूत ढांचे के विकास की दृष्टि से एक से बढकर एक नई योजनाओं को गति दी है और कोचिंग हब इसका अनूठा उदाहरण है।
आवासन मंत्री धारीवाल ने कहा कि प्रताप नगर में कोचिंग हब के बनने से एक ही स्थान पर कोचिंग गतिविधियां संचालित हो सकेंगी। इससे यातायात एवं पार्किंग की समस्या का भी निराकरण हो सकेगा। उन्होंने आवासन आयुक्त पवन अरोडा के जयपुर शहर के कोचिंग सेन्टर्स को एक ही छत के नीचे लाने के विजन एवं दूरगामी सोच की सराहना करते हुए कहा कि कोटा ने जहां कोचिंग सिटी के रूप में नाम कमाया है वहीं अब जयपुर भी कोचिंग हब के रूप में अपनी अलग पहचान बनाएगा।
इस अवसर पर नगरीय विकास विभाग के प्रमुख शासन सचिव कुंजीलाल मीणा ने कहा कि करीब 228 करोड़ रूपये की इस योजना में केन्द्रीयकृत पुस्तकालय के साथ साथ छात्र छात्राओं एवं शिक्षकों हेतु आवश्यक सुविधाएं भी विकसित की जा रही हैं।
आवासन आयुक्त पवन अरोडा ने बताया कि मण्डल द्वारा प्रताप नगर के हल्दीघाटी मार्ग सेक्टर.16 में 65 हजार वर्ग मीटर भूमि पर दो चरणों में कोचिंग हब विकसित किया जा रहा है। इससे लगभग 65 से 70 हजार छात्रों को शैक्षणिक सुविधा का लाभ मिलेगा तथा प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से नवीन रोजगारों का सृजन होगा जिससे स्थानीय निवासी भी लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि पहले चरण में निर्मित 5 ब्लॉक में कुल 140 कोचिंग परिसरों के आवंटन की प्रक्रिया प्रारंभ की जा रही है। करीब 1588.06 वर्गफीट से 8025.56 वर्गफीट तक सुपर बिल्टअप क्षेत्रफल के इन सभी कोचिंग परिसरों का आवंटन लॉटरी के माध्यम से किया जाएगा। इसके लिये ऑनलाइन आवेदन 25 जुलाई से 25 अगस्त 2022 तक किए जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में पांच संस्थानिक ब्लॉक, 90 दुकानों का व्यावसायिक परिसर तथा अन्य विकास कार्य जैसे चारदीवारी, आंतरिक सडक आदि का निर्माण पूर्णता की ओर है।

यह होगी आवेदन की पात्रता

आवासन आयुक्त ने बताया कि जयपुर शहर में संचालित कोचिंग संस्थानों को आवंटन में वरीयता दी जाएगी। कम से कम तीन वर्षों से कोचिंग के क्षेत्र में कार्यरत एवं पंजीकृत संस्थान ही आवेदन कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि पंजीकरण के लिये आवेदन शुल्क 5 हजार रूपए, 18 प्रतिशत जीएसटी अतिरिक्त तथा प्रोसेसिंग शुल्क 10 हजार रूपए, 18 प्रतिशत जीएसटी अतिरिक्त रखा गया है। निर्मित कोचिंग परिसरों को क्षेत्रफल के आधार पर 6 श्रेणियों में बांटा गया है। कोई भी आवेदक किसी एक श्रेणी में ही आवेदन कर सकेगा। प्रत्येक श्रेणी में लॉटरी के माध्यम से आवेदकों की वरीयता निर्धारित की जाएगी। वरीयता निर्धारण के पश्चात सफल आवेदकों को संस्थानिक सम्पत्ति का आवंटन लॉटरी के जरिए ही किया जाएगा। आयुक्त अरोड़ा ने बताया कि आवंटन पत्र जारी होने से 180 दिवस के भीतर सम्पूर्ण राशि जमा करवानी होगी। आवंटी संस्था द्वारा विधिवत कब्जा प्राप्त करने से 3 माह की अवधि में संस्था संचालन की कार्यवाही करनी अनिवार्य होगी।

बाजार दर से कम

आवासन आयुक्त ने बताया कि आवासन मण्डल ने कोचिंग परिसरों की आवंटन दरें बाजार मूल्य से 30 प्रतिशत तक कम रखी है। श्रेणीवार प्रति वर्गफीट दर न्यूनतम 4233 रूपये से अधिकतम 4619 रूपये प्रति वर्गफीट निर्धारित की गई है जो कि बाजार में प्रचलित दरों से 25 से 30 प्रतिशत तक कम है। नगर निगम को देय राशि एवं अन्य विविध व्यय अलग से देने होंगे।

समय का सुदपयोग

उन्होंने बताया कि सामान्यत: विभागों में निर्माण कार्य के पूरा होने के बाद ही आवंटन की प्रक्रिया प्रारम्भ की जाती है लेकिन कई बार इससे लागत बढने के साथ-साथ अनावश्यक विलम्ब होता है। आवासन मण्डल ने कोचिंग हब में निर्माण के अंतिम चरण के साथ ही कोचिंग परिसरों के आवंटन की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है। आवेदन प्राप्त करनेए प्राप्त आवेदनों की संवीक्षा तथा सफल आवेदकों की लॉटरी द्वारा वरियता सूची निर्धारित करने में डेढ से दो माह का समय स्वाभाविक रूप से लगेगा। इस अवधि में कोचिंग परिसरों के आन्तरिक एवं बाहरी विकास के काम पूर्ण कर लिये जाएंगे। इस अवसर पर मण्डल की सचिव संचिता विश्नोई, वित्तीय सलाहकार संजय शर्मा, मुख्य अभियन्ता केसी मीणा, जीएस बाघेला, मनोज गुप्ता, राजस्थान आवासन बोर्ड कर्मचारी संघ के अध्यक्ष दशरथ कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

About newsray24

Leave a Reply

Your email address will not be published.