राजस्‍थान केंद्रीय विश्‍वविद्यालय को मिला श्रेणी 1 विश्वविद्यालय का दर्जा

Spread the love



जयपुर. राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय (सीयू राज) को शिक्षा, अनुसंधान और नवाचार में उत्कृष्टता के प्रति असाधारण समर्पण की पुष्टि करते हुए, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा प्रतिष्ठित श्रेणी 1 विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया है ।
बेहतर प्रदर्शन करने वाले विश्वविद्यालयों को स्वायत्तता प्रदान करने के लिए, यूजीसी ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (ग्रेडेड स्वायत्तता प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालयों का श्रेणीकरण) विनियम, 2018 को अधिसूचित किया है । उक्त विनियम के तहत, राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय के प्रस्ताव पर विचार किया गया और यूजीसी द्वारा श्रेणी- I विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान किया गया ।


इस उल्लेखनीय उपलब्धि के बारे में बोलते हुए राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति, प्रोफेसर आनंद भालेराव ने कहा, “हम यूजीसी द्वारा श्रेणी 1 विश्वविद्यालय का दर्जा दिए जाने से मुझे बेहद खुशी है। यह मान्यता हमारे संकाय, कर्मचारियों और छात्रों के अथक समर्पण का प्रमाण है जिन्होंने लगातार ज्ञान और शैक्षणिक उत्कृष्टता की सीमाओं को आगे बढ़ाया है। यह अविश्वसनीय सम्मान विश्वविद्यालय के अपने मिशन यानी शिक्षा और नवाचार में उत्कृष्टता के माध्यम से सतत विकास के प्रति अटूट समर्पण का एक सच्चा प्रमाण है ।”
प्रोफेसर भालेराव ने आगे कहा कि इस श्रेणीबद्ध स्वायत्तता से विश्वविद्यालय यूजीसी की मंजूरी के बिना मौजूदा शैक्षणिक ढांचे के अंतर्गत नए पाठ्यक्रम/कार्यक्रम/विभाग/स्कूल/केंद्र शुरू कर सकेगा, विश्‍वविद्यालय अपने भौगोलिक क्षेत्राधिकार के भीतर अपनी घटक इकाइयां या ऑफ-कैंपस केंद्र खोल सकेगा, कौशल पाठ्यक्रम शुरू करना, अनुसंधान पार्क, ऊष्मायन केंद्र, स्व-वित्तपोषण मोड में विश्वविद्यालय समाज लिंकेज केंद्र खोलना, “कार्यकाल/अनुबंध” के आधार पर विदेशी संकाय को नियुक्त करना, योग्यता के आधार पर विदेशी छात्रों को प्रवेश देना, प्रतिभाशाली संकाय को आकर्षित करने के लिए प्रोत्साहन संरचना का निर्माण करना, विदेशी शैक्षणिक संस्थानों आदि के साथ शैक्षणिक सहयोग में संलग्न होना, ओपन और डिस्टेंस लर्निंग मोड में पाठ्यक्रम प्रारंभ करना इत्‍यादि जैसे अधिकार प्राप्‍त होंगे ।


यह प्रतिष्ठित दर्जा राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय को भारत के उन विशिष्ट विश्वविद्यालयों में रखता है जो शिक्षा, अनुसंधान, बुनियादी ढांचे, संकाय विशेषज्ञता और छात्र संलग्‍नता के विभिन्न मापदंडों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हैं। यूजीसी द्वारा यह मान्यता भविष्य के नेताओं, नवप्रवर्तकों और विद्वानों को आकार देने के विश्वविद्यालय के निरंतर प्रयासों को और अधिक मान्य करती है जो समाज में सार्थक योगदान दे सकते हैं ।
राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय ने लगातार एक समग्र शिक्षण वातावरण विकसित करने का प्रयास किया है जो न केवल गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करता है बल्कि अपने छात्रों के बीच महत्वपूर्ण सोच, रचनात्मकता और सामाजिक जिम्मेदारी की संस्कृति का पोषण भी करता है । यह सुयोग्य उपलब्धि, शिक्षा, अनुसंधान और नवाचार में और भी अधिक प्रगति के लिए उत्प्रेरक के रूप में काम करेगी ।


राजस्‍थान केंद्रीय विश्‍वविद्यालय के संबंध में : राजस्थान के अजमेर जिले के बांदरसिंदरी गांव में स्थित राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना केंद्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम, 2009 द्वारा की गई थी। विश्वविद्यालय ने वर्ष 2009 से 14 वर्षों की यात्रा सफलतापूर्वक पूरी की है और यह राजस्थान में उच्च शिक्षा की सबसे तीव्र गति से विकसित समृद्ध संस्थानों में से एक के रूप में उभरा है । विश्वविद्यालय ने लगातार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने और ऐसे वातावरण को बढ़ावा देने का प्रयास किया है जो अकादमिक उत्कृष्टता और समग्र विकास को बढ़ावा देता है । इसी क्रम में, राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (NAAC) के हाल में चरण-II मूल्यांकन में राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय को A++ ग्रेड के साथ CGPA 3.54 के साथ मान्यता प्राप्‍त हुई है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *