शिक्षा की आड़ में जारी व्यापार, भ्रष्टाचार व शोषण बंद हो विजयवर्गीय

Spread the love

सेवाभावी स्कूल संचालक एवं अभिभावक प्रतिनिधि आए एक मंच पर

जयपुर के मानसरोवर स्थित अपेक्स महिला कॉलेज के सभागार में निजी स्कूल संचालकों का सम्मेलन आयोजित हुआ। इस अवसर पर राजस्थान के अधिकांश जिलों में आर्थिक रूप से संघर्षरत निम्न एवं मध्यमवर्गीय परिवारों के बच्चों को शिक्षा दे रहे निजी स्कूलों के सैंकडो संचालकों ने हिस्सा लिया।

इस सम्मेलन के आयोजक निजी स्कूलों के प्रदेश स्तरीय प्रतिनिधि संगठन शिक्षा परिवार के अध्यक्ष अनिल शर्मा एवं अभिभावक एकता आंदोलन राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष मनीष विजयवर्गीय ने अपने अपने उद्बोधन में शिक्षा के क्षेत्र में व्याप्त व्यापार वाद, भ्रष्टाचार एवं शोषण के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए इसका मुख्य दोष सरकार की ढुलमुल नीतियों एवं कुछ बड़े स्कूलों की राजनेताओं से सांठगांठ एवं उससे उपजे भ्रष्टाचार को दिया।

अच्छा कार्य करने स्कूलों को मिले प्रोत्साहन एवं गलत कार्य करने वालों पर लगे लगाम
शिक्षा परिवार के प्रदेश अध्यक्ष अनिल शर्मा ने सरकारी नीतियों के खिलाफ अभिभावकों को साथ लेकर चलने की मंशा जाहिर करते हुए विजयवर्गीय से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार एवं अभिभावक अच्छा काम करने वाले निजी स्कूलों को प्रोत्साहित करें उन्हें सहयोग दें और जो गलत काम करते हैं उन पर लगाम लगाएं। अभिभावकों को यह देखना होगा कि लूट कौन रहा है सरकार या निजी स्कूल?

बिना किसी भेदभाव के सबको मिले समान शिक्षा – विजयवर्गीय
आयोजन के विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुए अभिभावक एकता आंदोलन के प्रदेश अध्यक्ष मनीष विजयवर्गीय ने प्रदेश के लाखों अभिभावकों के दर्द को व्यक्त करते हुए कहा कि शिक्षा के अधिकार के तहत प्रदेश के लाखों विद्यार्थियों को बिना भेदभाव के शिक्षा देना सरकार की जिम्मेदारी है, निम्न वर्ग के बच्चों के साथ-साथ मध्यम वर्ग के बच्चों को भी बिना भेदभाव के सहयोग एवं प्रोत्साहन मिले और उन स्कूलों के खिलाफ कार्यवाही हो जिन्होंने शिक्षा के नाम पर लूट मचा रखी है विजयवर्गीय ने कहा कि शिक्षा की आड़ में जारी व्यापार, भ्रष्टाचार व शोषण के खिलाफ हमने जमीनी संघर्ष किया है, जब तक भ्रष्टाचारी व्यवस्था बंद नहीं होगी संघर्ष जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.