BJP नेता ने किया सुसाइड, हो गया था 50 लाख रुपए का कर्जा

Spread the love

उदयपुर। राजस्थान के उदयपुर शहर के भूपालपुरा इलाके में BJP ओबीसी मोर्चा जिला अध्यक्ष ने गुरुवार सुबह घर में फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया। BJP नेता 1500 लोगों की बिजनेस कमेटी (बीसी) चलाता था। जानकारी के अनुसार उस पर करीब 50 लाख रुपए का कर्जा हो गया था। ऐसे में वह डिप्रेशन में आ गया था और सुसाइड कर लिया।

पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि BJP नेता प्रभु प्रजापत (58) 18 साल से भूपालपुरा और अशोक नगर के लोगों के साथ मिलकर बीसी चला रहा था। इसमें लोगों का करोड़ों रुपए जमा था। कोरोना के बाद उस पर लाखों रुपए का कर्जा हो गया था। बीसी में जमा कराए गए करीब 50 लाख रुपए उसे लोगों को देने थे।

बेटी चाय देने गई तो फंदे पर लटके थे पिता

जानकारी के अनुसार प्रभु ने दीपावली के बाद लोगों को रुपए देने की बात कही थी, लेकिन रुपयों का इंतजाम नहीं हो पा रहा था। इसी को लेकर वे चिंतिंत थे। थानाधिकारी हनुवंत सिंह सोढ़ा ने बताया कि गुरुवार सुबह 6 बजे जब बेटी चाय देने के लिए कमरे में गई तो पिता फंदे पर लटके मिले। पुलिस मौके पर पहुंची।

कर्जा उतारने के लिए बेच दी थी ऑडी कार

प्रभु प्रजापत की उदयपुर में ही पशु आहार की दुकान है। बीसी के जरिए कई लोगों के रुपए उसके पास जमा थे। बीसी के जरिए आए लोगों के रुपयों को वह दूसरी जगह इन्वेस्ट कर देता था। पुलिस ने बताया कि उस पर कर्जा बढ़ने लगा तो तीन साल पहले अपनी ऑडी कार बेच दी थी। वहीं फार्म हाउस बेचकर भी उसने कुछ कर्जा उतारा था। कर्ज उतारने के लिए कुछ दोस्तों से भी उसने रुपए उधार लिए थे।

दो साल पहले ही प्रभु को मिली ओबीसी मोर्चा की जिम्मेदारी

प्रभु 20 साल से BJP में एक्टिव था और 2 साल पहले ही उसे ओबीसी मोर्चा का जिला अध्यक्ष बनाया गया था। प्रभु के घर BJP प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां भी आए थे। गुलाबचंद कटारिया के साथ भी वे कार्यक्रमों में शामिल होते थे। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि महंगे शौक और लग्जरी लाइफ स्टाइल की वजह से ही उन पर कर्जा हो गया था। पिछले कुछ दिनों से बीसी में रुपए जमा करवाने वाले लोग पैसे लौटाने की बात कह रहे थे।
प्रभु की दो बेटियां हैं। एक LLB और दूसरी ग्रेजुएशन कर रही है। परिजनों का कहना है कि प्रभु ने सुसाइड नहीं किया, उन्हें हार्ट अटैक आया था। वे प्रभु पर किसी भी तरह के कर्जे से मना कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.