भानगढ़: आखिर कौन दे गया था वो चांदी का सिक्का

Spread the love

भानगढ़ एशिया महाद्वीप में सबसे ज्यादा चर्चित भुतहा शहर है। कहा जाता है कि एक तांत्रिक के श्राप के कारण यह आबाद शहर एक रात में ही तबाह हो गया था। उसके बाद से इसे भुतहा शहर के नाम से जाना जाने लगा। आज भी काफी संख्या में लोग यहां सिर्फ इसलिए आते हैं कि उन्हें कहीं भूत दिख जाए, लेकिन शायद ही आज तक किसी ने यहां भूत देखा होगा। आज हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही कुछ किस्से, जो लोगों के लिए कोतूहल का विषय बने हुए हैं।

यहां भानगढ़ शहर के प्रवेश द्वार पर हनुमान जी का प्राचीन मंदिर है। यह आस पास के लोगों के लिए तो आस्था का केंद्र है ही, लेकिन यहां काफी दूर से भी लोग शीश नवाने आते हैं। नवरात्र में यहां काफी भीड़ रहती है। इस दौरान यहां मंदिर में काफी संख्या में लोग नवरात्र करते हैं, जो रात को भी यहां मंदिर क्षेत्र में रहते हैं। ऐसे ही यहां काफी वर्षों से नवरात्र कर रहे थानागाजी निवासी विश्वंभर शर्मा ने बताया कि वे एक सुबह जल्दी उठकर रामायण पाठ कर रहे थे, तकरीबन मंदिर में उस समय वे आठ नौ लोग होंगे, जो रामायण पाठ कर रहे थे। उस समय सुबह के करीब चार साढ़े चार बज रहे होंगे, तभी एक पंडित सा दिखने वाला व्यक्ति मंदिर में आया और उसने हनुमान प्रतिमा के आगे शीश नवाने के बाद रामायण पाठ कर रहे लोगों को एक एक चांदी का सिक्का दिया। उसके बाद वह व्यक्ति वहां से चला गया। रामायण पाठ करने वाले लोगों ने बताया कि उन्होंने उस व्यक्ति को इससे पहले कभी नहीं देखा था। यहां आज भी रहस्य बना हुआ है कि वह व्यक्ति कोन था और कहां से आया था।

2 thoughts on “भानगढ़: आखिर कौन दे गया था वो चांदी का सिक्का

  1. Sitaram Kumar March 9, 2021 at 4:19 pm

    Very nice news. Work hard and publish everyday

    Reply
  2. hebergementwebs686 August 8, 2021 at 3:05 am

    Lultime nutizie di u web in tempu reale

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.