अप्रेक्षा न रखें तो ही बेहतर : अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

Spread the love

मौन साधना का छठवां दिन


भीलूड़ा.

मौन साधना का छठवां दिन
मंगलवार, 10 अगस्त 2021 भीलूड़ा

अन्तर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज भीलूड़ा में चातुर्मास रत हैं। मौन साधना की इस साधना में प्रात: 4 बजे समाज के अनेक लोग आते हैं और मंत्रों का जाप आदि करते हैं। मुनि का चिंतन आप सब पाठकों के लिए-

दु:खों से बचने के लिए अप्रेक्षा नहीं रखनी चाहिए। आज चिंतन में यह विचार आते ही मन खिन्न हो गया। बार-बार मन में आने लगा कि संयम जीवन के 22 सालों में भी अब तक नहीं समझ पाया कि दूसरों से अप्रेक्षा रखना ही मन को मलिन करना है। आज चिंतन में मेरी स्मृति में एक नहीं अनेक ऐसी बातें आईं जिनसे मैंने अप्रेक्षा रखी जिन पर अप्रेक्षा रखी जब वह अप्रेक्षा पर खरे नहीं उतरे तो उनके बारे में नकारात्मक सोच आने लगी। मुझे यह सोचकर ही डर लगा कि उस समय मैंने कितने ही भावों को मलिन कर न जाने कितने पापकर्म का बंध किया होगा। जिसके बारे में सोचा होगा उनका तो पता नहीं क्या हुआ। पर मेरे उस समय के अशुभ कर्म किस रूप में और कब उदय में आएंगे और मेरे संयमित जीवन को कितना विचलित करेंगे यह सोचकर ही मैं अंदर ही अंदर कम्पित हो रहा हूं। मेरा चिंतन अब इसी मुझे उधेड़बुन में लग गया कि आगे क्या होगा। चिंतन से विचलित होने लगा। बार-बार वापस चिंतन की और बढऩे लगा। तब जाकर इतना ही समझ में आया कि हम जो काम स्वयं कर सकते हैं उतना ही करना चाहिए। किसी दूसरे के भरोसे रहकर किसी काम का विचार भी नहीं करना चाहिए। इन्ही विचारों में घंटों तक रहा।
पर प्रश्न तो अभी भी यही खड़ा था कि अप्रेक्षा नहीं रखे बिना जीवन कैसे चलेगा मन मस्तिष्क में यही उत्तर दौडऩे लगा कि साधु जीवन में कपड़े की आवश्यकता नहीं न ही घर की और भोजन की। क्योंकि कपड़े मैं पहनता नहीं हूं न साधु का कोई घर है मंदिर ही साधु का घर है और भोजन श्रावक भक्ति से करवाते हैं। फिर इससे बड़ी अज्ञानता मुर्खता क्या होगी कि मैंने बिना प्रयोजन ही उन वस्तुओं की अप्रेक्षा रखी जो साधु के योग्य ही नहीं है। अप्रेक्षा के चक्कर में मैंने न जाने कितने अशुभ कर्म बन्ध किए हैं। यह सोच सोच कर ही चिंत्तन आगे बढ़ ही नहीं रहा था। इतने मैं चिंतन से बाहर हो गया।

About newsray24

Check Also

हारित भवन में डांडिया आज से

Spread the love मदनगंज किशनगढ़. श्री हरियाणा गौड़ ब्राह्मण पंचायत संस्था युवासंघ मदनगंज के सचिव …

Leave a Reply

Your email address will not be published.