उत्तर पश्चिम रेलवे के सभी सिग्नल हुए हाईटेक

Spread the love

उत्तर पश्चिम रेलवे पर ब्रॉड गेज के सभी स्टेशनों पर आधुनिक सिंगनलिंग प्रणाली
ब्रॉड गेज पर अपनी अंतिम सेमाफोर सिगनलिंग व्यवस्था को किया समाप्त

जयपुर. उत्तर पश्चिम रेलवे के जैसलमेर-फलौदी खंड में जोधपुर मंडल के आशापुरा गोमट स्टेशन पर सेमाफोर सिग्नलों को इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सिस्टम और एलईडी कलर लाइट सिग्नलों से बदलने के साथ ही सम्पूर्ण उत्तर पश्चिम रेलवे के ब्रॉड गेज खण्डों पर आधुनिक सिंगनलिंग प्रणाली स्थापित कर दी गई है।

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार महाप्रबन्धक विजय शर्मा के मार्ग निर्देशन एवं पुनीत चावला, प्रमुख मुख्य सिंगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर /उपरे एवं सी चंद्रशेखर शास्त्री, मुख्य सिंगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर /परियोजना के दिशा निर्देशन में कुशलता पूर्वक टोकन ब्लॉक के साथ काम करने वाले सेमाफोर सिग्नलों को इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सिस्टम और एलईडी कलर लाइट सिग्नलों से बदल दिया गया है।

इस उन्नत सिग्नलिंग प्रणाली के प्रयोग से रेल गाड़ियां जो कि पुरानी सिंगनलिंग प्रणाली में अब तक 50 KMPH की रफ्तार से इस स्टेशन से दौड़ा करती थीं अब अपनी अधिकतम निर्धारित गति(110 KMPH) से इस स्टेशन से गुजर पाएंगी। इसके अलावा नई ब्लॉक प्रणाली के लागू हो जाने से अब लोको पायलेटों को अवांछित तनाव से भी छुटकारा मिलेगा क्योंकि अब उन्हें स्टेशन पर से गुजरते हुए चलती ट्रेन से फिजिकली रूप से ब्लॉक टोकन लेने की जरूरत नहीं रहेगी, इससे संरक्षा में भी बढावा मिलेगा।

इस कलर लाइट सिग्नल वाली इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली से ट्रेनों के सुरक्षित और कुशल संचालन में मदद मिलेगी। इस प्रणाली के साथ स्टेशन पर दोनों दिशाओं से ट्रेनों को एक साथ आने और भेजे जाने की सुविधा के चालू होने से स्टेशन पर ट्रेन क्रॉसिंग समय में सुधार होगा एवं ट्रेनों के समय पालन मे भी बढ़ोतरी होगी । नई प्रणाली ने आने वाले वर्षों में विद्युतीकरण के लिए स्टेशन को भी उपयुक्त बना दिया गया है।

यह उत्तर पश्चिम रेलवे पर ब्रॉड गेज का अंतिम यांत्रिक सेमाफोर सिग्नल स्टेशन था और इस स्टेशन के चालू होने के साथ ही उत्तर पश्चिम रेलवे के ब्रॉड गेज से सेमाफोर सिग्नलिंग का लंबा युग समाप्त हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.