संपर्क पटल पर देश-विदेश से बही कविता की सरस धारा

Spread the love

अंतरराष्ट्रीय काव्यसंध्या से सुशोभित हुआ संपर्क पटल

जयपुर। संपर्क साहित्यिक संस्थान द्वारा विश्व कविता दिवस के पर्व पर भव्य अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन का आयोजन ज़ूम ऑनलाइन पटल पर किया गया ।
विश्व कविता दिवस पर इस कार्यक्रम में कविता की सरल धारा बही ।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि नीदरलैंड से साहित्यकार, पत्रकार अनुवादक समाजसेवी डॉ ऋतु शर्मा ने सम्पर्क संस्थान को निस्वार्थ साहित्य सेवा करने वाला संस्थान बताते हुए काव्य संध्या की सबसे बड़ी बात विश्व कविता दिवस को सच्चे अर्थों में विभिन्न देशों के साथ मना कर इस दिन की सार्थकता सिद्ध करने वाला उत्सव बताते हुए अपनी कविता प्रस्तुत की।
संस्थान की महासचिव रेनू शब्दमुखर ने 3 घंटे तक चलने वाले कार्यक्रम का संचालन करते हुए सभी अतिथिगण का शब्द स्वागत किया।तत्पश्चात डॉ आरती भदौरिया ने माँ सरस्वती की स्तुति करते हुए अपनी कविता प्रस्तुत की।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे सम्पर्क संस्थान के अध्यक्ष अनिल लढ़ा ने आज के भव्य आयोजन में देश विदेश की भागेदारी की सराहना करते हुए सभी को साहित्य सृजन में रत रह अपने लेखन को जन-जन तक पहुँचाने की बात कही। विशेष अतिथि फारूक आफरीदी तथा शोभा अक्षर ने सभी को शुभकामनाएं दी।


देश विदेश से कवयित्रियों ने लिया भाग


देश विदेश के रचनाकारों ने प्रेम, स्त्री, बेटी, यकीन, विरह, प्रकृति, कविता अंतर्मन का लेख, जिंदगी आदि विषयों पर अपनी कविता सुनाकर तालिया बटोरी। अमेरिका से अन्नदा पाटनी, वैंकूवर कनाड़ा से शिखा पोरवाल, सिंगापुर से आराधना झा, दुबई से अनु बाफना, जापान से प्रो.सुदेश मोदगिल ‘नूर’, नीदरलैंड से अश्विनी केगांवकर, सवाई माधोपुर से डॉ.आरती भदोरिया, जयपुर से वीना करमचंदानी, जोधपुर से डॉ.सूरज माहेश्वरी, पंचकुला से कृष्णा गोयल, चंडीगढ़ से डेज़ी बेदी, गुजरात से नीना आन्दोत्रा, शशि मूंदड़ा, मुम्बई से नीतू तातेड़, पंजाब से मीनाक्षी मेनन डॉ. प्रिया सूफी, अजमेर से डॉ.विनीता अशीत जैन, वापी से आरती बजाज खटीमा से बसंती सामंत, हेमा जोशी ललिता कापड़ी, हल्द्वानी से सौम्या दुआ, देवास से यशोधरा भटनागर ने अपनी कविताएं सुनाकर विश्व कविता दिवस को हर्षोल्लास के साथ मनाया।
ऑनलाइन चले इस कार्यक्रम में डॉ जयश्री शर्मा, मोनिका मिश्रा, डॉ नीलम कालरा, स्वाति गुप्ता, डॉ. कंचना, जीनस कंवर तथा खुशबू शेखावत, स्वाति गुप्ता श्याममोहन शर्मा तथा पुरषोत्तम श्रीवास्तव जी
पटल पर उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *