नाहरगढ़ से लापता हो गई सृष्टि, 38 घंटे से तलाश में जुटी हैं 8 टीमें

Spread the love

जयपुर। नाहरगढ़ लॉयन सफारी से गायब हुई शेरनी सृष्टि की तलाश में पिछले 380 घंटे से वन विभाग की 8 टीमों में 22 कर्मचारी और अधिकारी लगे हुए हैं। देर रात तक सृष्टि को कोई पता नहीं चल पाया था।

कार्यवाहक एसीएफ रघुवीर मीणा ने बताया कि वन विभाग की टीमें करीब 26 हेक्टेयर में फैले नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में उसे तलाश कर रही हैं। उन्होंने कहा कि बरसात के कारण पूरे क्षेत्र में घास और अन्य पेड़ पौधे काफी बड़े हो गए हैं, संभावना है कि वह इनमें ही कहीं छुप गई हो।

पहले भी कई हो चुकी है गायब

रघुवीर मीणा ने कहा कि यह पहला मौका नहीं है जब सृष्टि गायब हो गई हो। वह पहले भी कई बार गायब हुई है, लेकिन फिर अपने आप वापस आ जाती है। फिलहाल टीमें उसकी तलाश में जुटी हुई हैं।

एनक्लोजर में वापस नहीं आई


गौरतलब है कि नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क की लॉयन सफारी में शेर त्रिपुर के साथ जोड़ी बनाने के लिए शेरनी सृष्टि को गुजरात के शक्करगढ़ से यहां लाया गया था। रविवार देर शाम को सृष्टि अपने एनक्लोजर में वापस नहीं आई। इसके बाद वन विभाग की टीम ने उसे तलाश करना शुरू किया, लेकिन अभी तक उसका पता नहीं लग सका है। सृष्टि बायो पार्क की इकलौती शेरनी है।

आबादी क्षेत्र में पहुंची तो खतरा

सृष्टि के इस प्रकार गायब होने से अब अनहोनी की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं। विभागीय अधिकारियों को डर है कि यदि वह आबादी क्षेत्र में चली गई तो आमजन के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। गौरतलब है कि बायोलॉजिकल पार्क के नजदीक ही आमेर, सिस्यावास, कुंडा और कूकस जैसे घनी आबादी के क्षेत्र हैं। पिछले दिनों एक पैंथर ने अचरोल में कई लोगों को हमला कर घायल कर दिया था और अब शेरनी का गायब होना आबादी क्षेत्र के लिए एक बड़ा खतरा हो सकता है।

जूनागढ़ की शेरनी नाहरगढ़ की शान

जयपुर के नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत डेढ़ साल की सृष्टि को गुजरात के जूनागढ़ से जयपुर लाया गया था। तब से सृष्टि जयपुर के नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क की शान बन गई थी। सृष्टि बायोलॉजिकल पार्क की इकलौती शेरनी थी, जिसे शेर त्रिपुर के साथ जोड़ी बनाकर लॉयन सफारी में रखा गया था।

About newsray24

Check Also

बुढ़ा नाला पुनरुद्धार परियोजना के कार्य समय पर संपादित हों : गहलोत

Spread the love मुख्यमंत्री ने लिखा पंजाब के सीएम को पत्र- प्रदूषित जल का नदियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published.