करौली में बाइक रैली पर पथराव, चार पुलिसकर्मियों समेत 43 लोग घायल

Spread the love

करौली शहर में लगाया कर्फ्यू, इंटरनेट सेवा बंद

करौली, 2 अप्रेल। करौली में शनिवार को नवसंवत्सर पर निकाली गई बाइक रैली पर पथराव से माहौल तनावपूर्ण हो गया। जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने एक दर्जन से ज्यादा दुकानों और तीन बाइकों को आग के हवाले कर दिया। हालात को देखते हुए करौली शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है। सोशल मीडिया पर अफवाहों के बाद प्रशासन ने शहर में इंटरनेट सेवा बंद करा दी है।

पथराव में पुलिसकर्मियों सहित 43 लोगों के घायल होने की सूचना है जबकि पुष्पेंद्र नाम के व्यक्ति की हालत गंभीर बताई जा रही है। उसे जयपुर रेफर कर दिया गया है। अस्पताल पहुंचे घायलों के शरीर पर चाकू के निशान हैं।

कलेक्टर डॉ. मोहन लाल यादव और एसपी शैलेंद्र सिंह इंदौलिया मौके पर मौजूद हैं। घटना स्थल के साथ संवेदनशील इलाकों में पुलिस बल तैनात किया गया है। जयपुर से भी अधिकारियों की एक टीम को करौली रवाना किया गया है। साथ ही विधायक लखन सिंह भी जयपुर से करौली के लिए रवाना हो गए हैं। आगजनी से अब तक लाखों रुपए के नुकसान की बात सामने आई है।

उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के निर्देश

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने डीजी पुलिस से बात कर घटना की जानकारी ली है। उन्होंने पुलिस को उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने लोगों से शांति और कानून-व्यवस्था बनाने रखने की अपील भी की है।

पथराव में बाइक रैली के साथ चल रहे चार पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। इसके बाद शुरू हुई हिंसा में अब तक 43 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं। सभी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

600 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात

करौली में हालात पर काबू पाने के लिए प्रशासन की ओर से 50 पुलिस अधिकारी और 600 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। एडीजी संजीब नार्झरी, आईजी भरत मीणा, डीआईजी राहुल प्रकाश और एसपी मृदुल कछवाहा, आईजी भरतपुर प्रफुल कुमार खमेसरा और आईजी कानून व्यवस्था भरत मीणा मौके पर पहुंचकर हालात पर काबू पाने का प्रयास कर रहे हैं। अतिरिक्त महानिदेशक कानून व्यवस्था हवा सिंह घुमरिया ने बताया कि अब तक हिंसा में शामिल करीब 30 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है।

अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी हो – पूनिया

भापजा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि बाइक रैली पर समाज कंटकों द्वारा किए गए पूर्व नियोजित पथराव और आगजऩी की घटना से भारी जन आक्रोश है। ऐसी घटनाओं की जिम्मेदारी कांग्रेस सरकार की तुष्टिकरण की नीति है। अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी और उन पर सख्त कार्रवाई की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *