बीमारी ऐसी कि उड़ा दे किसी की भी नींद

Spread the love

बीमारियां भी अजीबो-गरीब होती है। ऐसी ही एक बीमारी में आदमी स्वयं तो चैन की नींद सोता है, लेकिन आस-पड़ोस में सोने वाले की नींद उड़ जाती है। ऐसे में कई बार आपको जिसकी नींद उड़ती है, उसकी नाराजगी का शिकार तो होना ही पड़ता है। साथ ही शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ती है। यह बीमारी है खर्राटे आना। आजकल नींद के दौरान खर्राटे आना एक आम समस्या हो गई है। ऐसे में लोग इसे अब बीमारी ही नहीं मानते हैं। हालांकि इस बीमारी की शुरुआती अवस्था में घरेलू उपायों की मदद से काफी हद तक इस समस्या पर काबू पाया जा सकता है, तो फिर अपनाइए ये घरेलू नुस्खे और दूसरों को भी लेने दीजिए चैन की नींद-

रामबाण औषधि है हल्दी

रसोई में रोज प्रयोग होने वाली हल्दी भी खर्राटों की समस्या से छुटकारा दिलाने में एक रामबाण दवा है। हल्दी को रात में सोने से पहले दूध में मिलाकर पीने से खर्राटों की समस्या से छुटकारा मिलता है। हल्दी एंटीसेप्टिक व एंटी बायोटिक होने से नासा द्वार को साफ करती है, जिससे सांस लेना आसान हो जाता है और खर्राटे की समस्या काफी हद तक दूर हो जाती है।

इलायची के कुछ दाने भी देंगे राहत

हर घर की रसोई में इलायची भी आसानी से मिल जाती है। इलायची सर्दी-जुकाम व खांसी में उपयोगी होती है। इससे सांस संबंधी समस्या होने पर राहत मिलती है। रात को सोने से कम से कम आधा घंटा पहले इलायची के चार-पांच दानों को गुनगुने पानी के साथ मिलाकर पीने से खर्राटों की समस्या से राहत मिलती है।

जैतून का तेल भी कारगर

खर्राटों की समस्या से निजात दिलाने के लिए ऑलिव ऑयल (जैतून का तेल) भी कारगर उपाय है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जिनके कारण ऑलिव ऑयल श्वसन संबंधी विकारों के निराकरण में काफी फायदेमंद है। यह श्वसन प्रक्रिया को सुचारू बनाए रखने में मदद करता है, जिसके कारण खर्राटों में कमी आती है।


पुदीने के तेल से करें गरारें

पुदीने में ऐसे तत्व बहुतायत में पाए जाते हैं, जो गले और नाक के छिद्रों की सूजन कम करने में उपयोगी होते हैं। इससे रेस्पिरेटरी सिस्टम संबंधी समस्याओं में राहत मिलती है। सोने से पहले पिपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदे पानी में डालकर नियमित कुछ दिन तक गरारें करने से खर्राटों की समस्या से छुटकारा मिलता है।


लहसुन में हीलिंग का गुण

लहसुन नासिका मार्ग में बलगम बनने की प्रक्रिया को रोकता है और श्वसन तंत्र में सूजन को कम करने में मदद करता है। यदि खर्राटे साइनस के कारण आते हैं तो लहसुन का उपयोग आपके लिए सबसे ज्यादा कारगर होगा। लहसुन में हीलिंग का गुण होता है, जो ब्लॉकेज हटाने के साथ ही श्वसन तंत्र को स्वस्थ बनाता है। सुकूनभरी नींद के लिए लहसुन का उपयोग फायदेमंद है। लहसुन की एक या दो कली पानी के साथ रात्रि में सोने से पहले लें। इससे आप खर्राटों से निजात पाकर चैन की नींद ले सकते हैं।
ये कुछ घरेलू उपाय अपनाकर आप तो खर्राटों की समस्या से निजात पा ही सकते हैं। साथ ही दूसरों की नींद में खलल नहीं डालकर आप उनकी नाराजगी से भी बच सकते हैं।

About newsray24

Check Also

बदलती जीवन शैली दे रही है मौत

Spread the love दिल के दौरे पडऩे का मुख्य कारणस्वास्थ्य पर ध्यान देना हुआ जरूरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.