पक्षियों के लिए शुरू किया परिंडा अभियान

Spread the love

भगवान महावीर चाइल्ड वेलफेयर ट्रस्ट का सेवा कार्य
जयपुर।
तपती गर्मियों में कोई भी पक्षी पानी और दाने से वंचित न रहे, इस भाव को लेकर भगवान महावीर चाइल्ड वेलफेयर ट्रस्ट द्वारा घर-घर परिंडा अभियान प्रारंभ किया गया है। जयपुर शहर के जवाहर नगर के टीला नंबर 3 पर गिरिराज शर्मा के नेतृत्व में घर-घर जाकर परिंडा वितरण अभियान की शुरुआत की गई। साथ ही परिवारों को इन परिंडो की उपयोगिता समझाकर हाथों हाथ उन्हें उचित स्थान पर लगाया जा रहा है। इसके अतिरिक्त एक आग्रह प्रत्येक परिवार से कर रहें हैं कि वे परिंडे के साथ पक्षियों के लिए दाना भी अवश्य रखें व नियमित इसकी संभाल करें। माधव सेवा समिति की ओर से संचालित संस्कार केंद्र के बच्चे भी इस माध्यम से पर्यावरण संरक्षण व संतुलन का पाठ सीख रहे हैं।
900 परिंडे उपलब्ध कराने में विशेष सहयोग कैलाश चंद्र शर्मा अध्यक्ष श्रीकृष्ण गोपाल गौशाला मोहनपुरा वाटिका व कोषाध्यक्ष कमल सोमानी द्वारा प्राप्त हुआ है। घर-घर परिंडे पहुंचाने का कार्य भगवान महावीर चाइल्ड वेलफेयर ट्रस्ट के कार्यकर्ता कर रहे हैं। यह अभियान आगामी 7 दिन जारी रहेगा।
गौरतलब है कि श्रीमाधव सेवा समिति विशेष रूप से गरीब बच्चों की शिक्षा और संस्कार के क्षेत्र में काम कर रही है। पिछले 8 वर्षों से यह समिति जयपुर, जोधपुर, सीकर एवं बीकानेर में कच्ची बस्तियों में जो बच्चे सामान्य परिस्थितियों में शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते और उपयुक्त स्कूल में प्रवेश नहीं पाते ऐसे बच्चों की प्रारंभिक शिक्षा ठीक प्रकार से हो ताकि वे आगे भी मजबूत बैकग्राउंड के साथ पढ़ाई कर सके। साथ ही संस्कारों की भी प्राप्ति हो इस उद्देश्य को लेकर लगभग लगभग 90 संस्कार केंद्र एवं 7 स्कूलों के माध्यम से यह कार्य चल रहा है। इस कार्य से लगभग 4000 से अधिक बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं। परिंडे लगाना, तुलसी पौधों का वितरण करना इस प्रकार के संस्कारक्षम कार्य समय समय पर समाज के सहयोग से करते रहते हैं।

About newsray24

Check Also

हारित भवन में डांडिया आज से

Spread the love मदनगंज किशनगढ़. श्री हरियाणा गौड़ ब्राह्मण पंचायत संस्था युवासंघ मदनगंज के सचिव …

One comment

  1. obviously like your web site however you have
    to test the spelling on quite a few of your posts.

    A number of them are rife with
    spelling problems and I to find
    it very troublesome to tell the reality then again I will certainly come
    again again.

Leave a Reply

Your email address will not be published.