ओएफबी का निगमीकरण निजीकरण की साजिश

Spread the love

देश की रक्षा तैयारियों को होगा नुकसान
एटक महासचिव कौर ने किया विरोध


जयपुर.
केंद्र सरकार की ओर से रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले ओर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के निगमीकरण का एटक ने कड़ा विरोध किया है। एटक महासचिव अमरजीत कौर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है इससे देश की रक्षा तैयारियों को नुकसान होगा और यह निजीकरण की साजिश है।
एटक महासचिव अमरजीत कौर ने कहा कि ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस केंद्र सरकार के फैसले की निंदा और अस्वीकार करती है। हमारे देश के प्रमुख रक्षा उद्योग अर्थात भारतीय आयुध कारखानों को 7 निगमों में बदलने से मोदी सरकार के लिए राष्ट्रीय संपत्ति को बेचना आसान हो गया है। पिछले वर्ष के दौरान जब पूरा देश कोविड -19 महामारी पर था और मोदी सरकार ने तालाबंदी की। विभिन्न जनविरोधी मजदूर विरोधी और किसान विरोधी उपायों की घोषणा की साथ ही सार्वजनिक उपक्रमों और सरकार के विनिवेश और निजीकरण की घोषणा की। पिछले सभी समझौतों और पूर्व रक्षा मंत्रियों द्वारा दिए गए आश्वासनों के उल्लंघन में आयुध कारखानों के निगमीकरण सहित विभागों ट्रेड यूनियनों और रक्षा नागरिक कर्मचारियों के संघों ने सरकार के मनमाने फैसले के खिलाफ 12 अक्टूबर 2020 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला किया था। तत्पश्चात 9 अक्टूबर 2020 को मुख्य श्रम आयुक्त केंद्रीय की उपस्थिति में समझौता किया गया और तदनुसार हड़ताल स्थगित कर दी गई। हालांकि सरकार ने समझौते और धारा का उल्लंघन किया। आईडी अधिनियम 1947 के 33 और देश के कानून की अनदेखी करते हुए आयुध कारखानों को निगमित करने के अपने निर्णय पर सरकार आगे बढ़ी। एआईडीईएफ, आईएनडीडब्ल्यू और बीपीएमएस द्वारा इन उल्लंघनों के खिलाफ दर्ज शिकायत को मुख्य श्रम आयुक्त (सी) द्वारा पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया था। सरकार को सक्षम करने के लिए। 16 जून को निर्णय लेने के लिए मुख्य श्रम आयुक्त सी ने 15 जून को तत्काल सुलह की कार्यवाही बुलाई और हड़ताल नोटिस देने वाले तीन मान्यता प्राप्त संघों की अनुपस्थिति में सरकार के दबाव में कार्यवाही बंद कर दी। सरकार का 80 हजार कर्मचारियों की ट्रेड यूनियनों का सरकार से कोई समझौता नहीं है।

यह होगा नुकसान

  1. किसी भी सरकार का निगमीकरण, विभाग का मतलब है कि अंतत: इसका निजीकरण किया जा रहा है जिसे सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि सभी सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण किया जाएगा। इसलिए आयुध कारखानों का निगमीकरण राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा तैयारियों के हित के खिलाफ है।
  2. कर्मचारियों की भर्ती अखिल भारतीय प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से केंद्र सरकार के रूप में की जाती है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 309 के तहत कर्मचारी, रक्षा नागरिक कर्मचारी और उन्हें भारत की संचित निधि से भुगतान किया जाता है। उनकी पेंशन का भुगतान भी भारत की संचित निधि से किया जा रहा है। पीएसयू के कर्मचारियों में परिवर्तित होने पर ये सभी स्थिति और सुरक्षा समाप्त हो जाएगी।
    3 पिछले 20 वर्षों में 5 पूर्व रक्षा मंत्रियों ने लिखित आश्वासन दिया है कि ओएफबी का निगमीकरण नहीं किया जाएगा। वर्तमान निर्णय इन सभी समझौतों और आश्वासनों का उल्लंघन है।
  3. रक्षा मंत्रालय ने पहले ही रक्षा संबंधी संसदीय स्थायी समिति के समक्ष कहा है कि ओएफबी का निगमीकरण एक व्यवहार्य प्रस्ताव नहीं होगा।

कर्मचारी करेंगे हड़ताल

रक्षा नागरिक कर्मचारियों के संघों ने अपनी अनिश्चितकालीन हड़ताल को फिर से शुरू करने सहित वापस लडऩे का फैसला किया है। आयुध निर्माणी कर्मचारियों के साथ सभी समर्थन और एकजुटता प्रदान करता है। हम देश के लोगों और सभी क्षेत्रों में ट्रेड यूनियनों से सरकार के फैसले का विरोध करने का आह्वान करते हैं ताकि सरकार को रोका जा सके। आयुध कारखानों को 7 छोटे निगमों में विभाजित करने और फिर अपनी भूमि और संपत्ति को अपने अनुकूल निजी कॉरपोरेट्स और क्रोनी कैपिटलिस्टों को बेचने का निर्णय होगा। देश सरकार के इस तरह के गलत सोचे समझे फैसले को बर्दाश्त नहीं कर सकता। जिसका हमारे देश की सुरक्षा, रक्षा तैयारियों और आत्मनिर्भरता पर गंभीर प्रभाव पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.