आखिर काम आई सार्वजनिक क्षेत्र की क्षमताएं

Spread the love

डीआरडीओ और रेलवे ने कोरोना वायरस से निपटने में किया सहयोग
जयपुर। कोरोना वायरस से निपटने में देश के अमूल्य सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाएं आगे आई है। महामारी के कारण स्थितियां बिगड़ती देख यह संस्थाएं देशवासियों की मदद के लिए आगे आई है।
रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) ने दिल्ली और लखनऊ में कोविड अस्पताल खोले है। डीआरडीओ चेयरमैन डॉ. जी. सतीश रेड्डी ने बताया कि लखनऊ में 450, वाराणसी में 750 और अहमदाबाद में 900 बेड का अस्पताल स्थापित किए जाने की प्रक्रिया तेजी से जारी है। दिल्ली में 1000 बेड का कोविड अस्पताल खोल दिया गया है। डीआरडीओ ने सप्लीमेंटल आक्सीजन डिलीवरी सिस्टम बनाया है। इससे आक्सीजन की आपूर्ति बढ़ेगी और जल्द सेटअप किया जा सकेगा। इस सिस्टम को ऊंचे और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में सैनिकों की मदद के लिए बनाया गया है लेकिन यह कोविड से लडऩे में भी मदद करेगा। इसके साथ ही डीआडीओ ने आक्सीजन उत्पादन बढ़ाने में भी मदद के लिए आगे हाथ बढ़ाया है।
रेलवे ने बनाए कोविड कोच
रेलवे ने भी देशभर में कई रेल के कई डिब्बों को कोविड कोच में बदल दिया है। इनमे कोविड मरीजों को रखा जा सकेगा। रेलवे ने देश में आक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए आक्सीजन एक्सप्रेस चलाने का निर्णय किया है। इससे देशभर में जल्द ही आक्सीजन की आपूर्ति बढ़ जाएगी।


तो बदल जाएगा नजारा
देश के अमूल्य सार्वजनिक क्षेत्र की क्षमताएं बहुत अधिक है। इसमे सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाएं और उद्योग शामिल है। इनकी क्षमताओं का उपयोग किया जाए और इनको भी आर्थिक सहयोग किया जाए तो न केवल ऑक्सीजन बल्कि वैक्सीन, दवाइयों और ग्रामीण विकास में भारी योगदान कर सकते है। विशेष कोविड अस्पताल भी जल्द से जल्द बनाए जा सकते है। कोविड केयर सेंटर और क्वारंटीन सेंटर भी तुरंत बनाए जा सकते है। इसके साथ भविष्य के अन्य वायरस हमलों से निपटने की तैयारी भी जरूरी है। इसके लिए हमारे पास मजबूत अमूल्य सार्वजनिक क्षेत्र होना बहुत जरूरी है।
सेना भी करेगी मदद
भारतीय सेना भी मदद के लिए आगे आई है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के निर्देश पर सेना के कई अस्पतालों ने कोविड मरीजों का उपचार शुरू कर दिया है। इससे भी अन्य अस्पतालों पर दबाव कम होगा और लोगों का मनोबल बढ़ेगा। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सभी रक्षा उपक्रम, आर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड और डीआरडीओ को मिलकर काम करने और राज्य सरकारों की मदद करने के निर्देश दिए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.